साउथ एशियन गेम्स स्वर्ण पदक विजेता राजस्थान पुलिस की 2 महिला खिलाडियों का किया भव्य स्वागत
December 12th, 2019 | Post by :- | 456 Views

जयपुर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । नेपाल के काठमांडू में आयोजित 13वें साउथ एषियन गेम्स 2019 में कुश्ती एवं कबड्डी प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक विजेता राजस्थान पुलिस की दो महिला खिलाडियों शीतल तोमर(कुश्ती) व ममता कुमारी ढाका (कबड्डी) के गुरूवार प्रातः सांगानेर हवाई अड्डा पहुँचने पर राजस्थान पुलिस के अधिकारियों, खिलाडियों व खेलप्रेमियों ने भव्य स्वागत किया। महानिदेशक पुलिस भूपेन्द्र सिंह ने राजस्थान पुलिस के दोनों स्वर्ण पदक विजेता खिलाडियों को बधाई दी एवं प्रत्येक खिलाडी को एक लाख रूपये नगद पारितोषिक व प्रसंशा पत्र प्रदान कर उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की। हवाई अड्डे पर आरएसी कमाण्डेन्ट जगदीश चंद्र, राजेन्द्र कुमार एवं भंवर सिंह नाथावत तथा डिप्टी कमांडेन्ट रामसिंह ने खिलाडियों की अगवानी की। इन खिलाडियों का हवाई अड्डे से घाटगेट के मार्ग में कई स्थानों पर खेलप्रेमियों ने स्वागत किया। विजेता खिलाडियों को जुलूस के साथ घाटगेट स्थित आरएसी पांचवीं बटालियन मुख्यालय ले जाया गया। अतिरिक्त महानिदेशक आर्म्ड बटालियन एवं मुख्य खेल अधिकारी जंगा श्रीनिवास राव ने बटालियन मुख्यालय पर आयोजित स्वागत समारोह में दोनों खिलाडियों एवं उनके कोच व पूरी टीम को बधाई दी। उन्होंने कहा कि राजस्थान पुलिस के इतिहास में पहली बार साउथ एशियन गेम्स में 2 खिलाडियों ने स्वर्ण पदक प्राप्त किया है। राजस्थान पुलिस की प्लाटून कमाण्डर शीतल तोमर ने साउथ एषियन गेम्स में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए कुश्ती के 50 किलो वर्ग के फाइनल में बांग्लादेश की खिलाडी निरोचानी को हराकर गोल्ड मेडल हासिल किया है। हाल ही जालंधर में आयोजित सीनियर नेशनल रेसलिंग चैंपियनषिप में पूर्व चैंपियन हरियाणा की डीवाईएसपी निर्मला को 50 किलो भार वर्ग में हराकर गोल्ड मैडल जीता था। जयपुर में आयोजित 67वीं अखिल भारतीय पुलिस रेसलिंग प्रतियोगिता में भी शीतल तोमर ने अपने भार वर्ग में स्वर्ण पदक हासिल किया था। शीतल तोमर खेल कोटा में राजस्थान पुलिस में प्लाटून कमांडर के पद पर भर्ती हुई।साउथ एशियन गेम्स में ही भारतीय महिला कबड्डी टीम ने फाइनल में नेपाल को 50-13 अंकों से हराकर स्वर्ण पदक प्राप्त किया है। राजस्थान पुलिस की महिला कांस्टेबल ममता कुमारी ढाका इस टीम की सदस्य है। श्रीमती ममता कुमारी वर्ष 2015 में जनरल डयूटी काॅस्टेबल के पद पर भर्ती हुई थी। बेसिक ट्रेनिंग के पश्चात टैलेन्ट सर्च स्कीम के तहत इस खिलाडी का चयन किया गया था। कडी मेहनत व संघर्ष के परिणाम स्वरूप ममता 3 वर्ष की अल्पावधि में भारतीय सीनियर महिला कबड्डी टीम में जगह बनाने में कामयाब हुई है। जबकि पांचवीं बटालियन आरएसी में आने से पूर्व ममता का कोई खेल बैकग्राउंड नहीं था।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।