( विडियो भी देखे ) छात्रों से जातीय भेदभाव पर मुख्याध्यापिका सस्पेंड
December 12th, 2019 | Post by :- | 162 Views

सराज के प्राइमरी स्कूल में सामने आए वाकया को लेकर विभाग की कार्रवाई

थुनाग, बालीचौकी – सराज विधानसभा क्षेत्र के एक प्राइमरी स्कूल में स्कूली बच्चों के साथ जातिगत भेदभाव मामले में बुधवार को शिक्षा विभाग व पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। इस मामले में शिक्षा उपनिदेशक मंडी ने स्कूल की मुख्याध्यापिका को सस्पेंड दिया है, जबकि पुलिस अधिकारी ने बुधवार को स्कूल पहुंच कर बच्चों व अध्यापकों से पूछताछ की। वहीं निलंबित करने के बाद विभाग ने मुख्याध्यापिका को प्रारंभिक शिक्षा उपनिदेशक कार्यालय मंडी में तैनात कर दिया गया है।

इस बारे में उच्च शिक्षा उपनिदेशक अशोक शर्मा ने पुष्टि करते हुए बताया कि पूरे मामले की विभागीय जांच भी शुरू कर दी है। मामले की जांच शिक्षा खंड सराज-द्वितीय के बीईईओ करेंगे। उन्होंने बताया कि स्कूलों में जातीय भेदभाव को कतई सहन नहीं किया जाएगा। उन्होंने बताया कि स्कूल की शिक्षा व्यवस्था को देखना प्रत्येक स्कूल के मुख्याध्यापक का काम होता है। जांच में जो दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ विभागीय कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। वहीं, इस मामले में पुलिस जांच भी शुरू कर दी गई है। एसपी मंडी ने इस बाबत उपमंडल अधिकारी गोहर अनिल भारद्वाज व डीएसपी अनिल पटियाल को जांच का जिम्मा सौंपा है। उन्होंने बुधवार को अपनी टीम सहित पाठशाला में पहुंच कर जांच की। इस दौरान उन्होंने बच्चों व अभिभावकों के बयान दर्ज किए। बता दें कि बालीचौकी तहसील के तहत पंचायत बालीचौकी के एक प्राइमरी स्कूल में दोपहर के भोजन के दौरान दलित छात्र के साथ भेदभाव पर पुलिस थाना औट में मामला दर्ज हुआ है। इस संबंध में अभिभावकों द्वारा बनाया गया वीडियो वायरल हुआ था। इस बाबत एसपी मंडी को शिकायत भी भेजी गई थी। पुलिस ने गगन कुमार पुत्र गिरीश कुमार की शिकायत पर औट थाना में एससी -एसटी के तहत मामला दर्ज कर किया है। आरोप है कि उनके बेटे को अन्य बच्चों से अलग बैठाया जा रहा था, जिसका उनके पास वीडियो भी है।

इस बारे में एसपी मंडी गुरदेव शर्मा ने बताया कि मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस द्वारा स्कूली बच्चों और लोगों के बयान कलमबद्ध किए गए हैं। जांच के बाद आगामी कार्रवाई की जाएगी।

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।