राष्ट्रीय राजमार्ग पर लगे मिट्टी के ढ़ेर, लोग परेशान।
December 10th, 2019 | Post by :- | 65 Views

होड़ल, (मधुसूदन): एक ओर जनता को प्रदूषण से राहत दिलाने के लिए प्रशासन द्वारा कई प्रकार के प्रयास किए जा रहे हैं। अधिक प्रदूषण होने पर जगह जगह पानी से छिडकाव भी कराया जाता है,लेकिन दूसरी तरफ स्थानीय प्रशासन राष्ट्रीय राजमार्ग के दोनों तरफ ड्रेन के लिए खोदी गई मिटटी को उठवाना ही भूल गया। उक्त मिट्टी अब आसपास के कालोनियों के लोगों और वाहन चालकों के लिए जी का जंजाल बन गई है। राष्ट्रीय राजमार्ग के एक तरफ जन स्वास्थ विभाग तथा दूसरी साईड में नगर परिषद शहर को मिटटी के ढेर में तबदील करने पर तुले हुए हैं। दोनेां ही विभागों के अधिकारियों को जनता की परेशानियों से कुछ भी लेना देना नहीं है। हालांकि कालोनियों के लोगों द्वारा इस मामले को विभागीय अधिकारियों के समक्ष मौखिक व लिखित रूप से अवगत कराया जा चुका है। इसके अलावा स्थानीय विधायक जगदीश नायर ने भी पिछले दिनों बुलाई गई बैठक में दोनों विभागों के अधिकारियों से मिटटी नहीं उठाए जाने के मामले में जबाब मांगा था लेकिन उसके बाद भी विभागीय अधिकारियेां के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी है। अब हालात ये हैं कि राष्ट्रीय राजमार्ग के सर्विस रोड से निकलने वाले वाहनों से उडने वाली धूल मिटटी आसपास की कालोनियों के घरों,दुकानों तथा विभिन्न सरकारी व गैर सरकारी कार्यालयों में पहुंच रही है। इसके अलावा राष्ट्रीय राजमार्ग के आसपास स्थापित कई निजी अस्पतालों के मरीजों को भी इस मिटटी के कारण परेशानियों का सामना करना पड रहा है। जन स्वास्थ विभाग द्वारा गंदे पानी की निकासी के लिए उझीना डे्रन से हसनपुर चौक तक तथा दूसरी साईड में नगर परिषद द्वारा करोडों रुपए की लागत से ड्रेनों के निर्माण कराया जा रहा है। जिसके लिए ठेकेदारों द्वारा मिटटी की खुदाई कराई गई है। इस खुदाई से निकल मिटटी को कई महीने बीत गए हैं लेकिन मिटटी को अभी तक उठवाया नहीं गया है। उक्त मिटटी आज भी सडकों के किनारे पडी हुई है। अब यही मिटटी वाहनों के साथ घरों व दुकानों में प्रवेश कर रही है। पूरा दिन धूल मिटटी उडने के कारण लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड रहा है। लोगों ने प्रशासन से इस मिटटी को शीघ्र उठवाए जाने की मांग की है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।