एसपी ने खुला दरबार लगाकर लोगों की सुनी समस्याएं, मौके पर ही अधिकारियों को समाधान करने के दिए निर्देश, एक दर्जन के करीब लोगों ने रखी खुले दरबार में एसपी के समक्ष रखी अपनी शिकायतें
December 10th, 2019 | Post by :- | 74 Views

कैथल, लोकहित एक्सप्रैस, ( ब्यूरो चीफ विशाल चौधरी ) ।सोमवार की सुबह एसपी विरेंद्र विज ने अपने कार्यालय में खुला दरबार लगाकर दोपहर करीब 12:30 बजे तक लोगों की शिकायतें सुनी गई। इस दौरान उन्होनें ध्यानपूर्वक शिकायतों को पढऩे के बाद मौके पर ही संबधित अधिकारियों को शिकायतें निपटाने के आदेश दिए। खुले दरबार में लगभग एक दर्जन लोगों ने अपनी शिकायतें पुलिस अधीक्षक के सामने रखी। इस दौरान पुलिस अधीक्षक द्वारा कई थाना प्रबंधकों को टैलिफोन की मार्फत उचित कार्रवाई करने के आदेश दिए गये, वहीं एक शिकायत थाना शहर में समाज सेवी संस्था सीएलजी को अग्रेसित की गई। एसपी ने पुलिस अधिकारियों को कहा कि पुलिस थाना में पहुंचने वाले शिकायतकर्ता की शिकायत को पुलिस न केवल तुंरत दर्ज करें, अपितु उस पर त्वरित कार्रवाई करते हुए पीडि़त को न्याय दिलाने का काम करें। उन्होनें कहा कि थाना में पहुंचने वाले व्यक्ति के साथ पुलिस कर्मियों का व्यवहार अच्छा होना चाहिए, क्योंकि पुलिस के पास व्यक्ति उसी समय में पहुंचता है, जब उसे न्याय की दरकरार होती है और वह आस लेकर ही थाना के दरवाजे पर पहुंचता है। अगर थाना में पहुंचने के बाद व्यक्ति के साथ पुलिस का व्यवहार ठीक नहीं होता तो वह पूरी तरह टूट जाता है। एसपी ने कहा कि उन्हें इस तरह की कोई शिकायत नहीं मिलनी चाहिए, जिससे पुलिस की छवि खराब हो और आम लोगों का पुलिस के प्रति विश्वास कम हो।
पुलिस अधीक्षक विरेंद्र विज ने जिला वासियों से अपील की कि वे बेहिचक किसी भी थाना मे पहुंचकर अपनी शिकायत दर्ज करा सकते है। इस दौरान कोई समस्या आने पर वे उनसे सीधे कार्यालय में आकर मिल सकते है। लोगों को न्याय दिलाना ही पुलिस की प्राथमिकता कोनी चाहिए। एसपी ने पुलिस कर्मियों को आदेश दिया कि वे आम लोगों से दोस्ताना व्यवहार बनाकर रखे, जिससे आम लोग पुलिस की आंख और कान बन सकें। उन्होंने कहा कि उनके कार्यालय में प्रत्येक कार्य दिवस को खुला दरबार लगाया जाएगा। इस दौरान कोई भी पिडि़त उनके समक्ष अपनी शिकायत रख सकता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।