अंतर्राष्टï्रीय गीता महोत्सव में सजा राहगिरी का मंच, भ्रष्टï्राचार मुक्त रहा राहगिरी का मुख्य थीम, हजारों लोगों ने खूब लिया राहगिरी के कार्यक्रमों का आनंद
December 9th, 2019 | Post by :- | 137 Views
कुरुक्षेत्र, ( सुरेश पाल सिंहमार )    ।   अंतर्राष्टï्रीय गीता महोत्सव में पर्यटक देश के विभिन्न राज्यों के लोक नृत्यों और सांस्कृतिक गतिविधियों का आनंद ले रहे थे, लेकिन राहगिरी में हरियाणवी लोक नृत्यों और चुटकलों का रंग पर्यटकों के चेहरों पर साफ नजर आया। इस राहगिरी कार्यक्रम में पर्यटकों ने खूब आनंद लिया। अहम पहलू यह है कि इस राहगिरी का थीम भ्रष्टïाचार मुक्त समाज का निर्माण करना रखा गया। अंतर्राष्टï्रीय गीता महोत्सव पर ब्रहमसरोवर के गार्गी घाट पर पुलिस प्रशासन की तरफ से राहगिरी का मंच सजाया गया। इस मंच पर विभिन्न प्रदेशों से आए कलाकारों ने जहां लोगों का मनोरंजन किया वहीं स्थानीय कलाकारों ने भी अपनी प्रस्तुतियों के माध्यम से खूब वाहवाही लुटी। इस मंच को एक सूत्र पर पिरोने का काम सब इंस्पैक्टर एवं ट्रैफिक काडिनेटर नरेश सागवाल ने किया।
सोमवार को प्रशासन, केडीबी और पुलिस के सहयोग से राहगिरी कार्यक्रम के मंच पर कलाकार राहुल ने हिन्दी मिक्स, प्रवीण व प्रदीप ने हरियाणवी, न्यू उत्थान थियेटर गु्रप के कलाकार कुलदीप शर्मा व पारू कौशिक ने बोल तेरे मीठे,छोरा मै हरियाणा का, गजबन पानी ना चाली गानों पर डांस करके दर्शकों का मन मोह लिया। वहीं सन्नी फौजी ने सन्नी दयोल के फिल्मी डायलोग सुनाकर लोगों की वाहावाही लूटी।  शुभम व लक्ष्य ने हरियाणवी गानों पर डांस किया,  कुरुक्षेत्र के 5 वर्ष के सक्षम व उसकी माता ने हरियाणवी    लोक नृत्य प्रस्तुत करके दर्शकों को दांतों तले उंगलियां चबाने पर मजबूर कर दिया।
सब इंस्पैक्टर नरेश सागवाल और उनके साथी कलाकार हरिकेश पपोसा ने हरियाणवी चुटकले और कविताएं सुनाकर दर्शकों का खूब मनोरंजन किया। इन दोनों कलाकारों ने मंच का बेहतरीन संचालन करके राहगिरी के कार्यक्रम को यादगार बनाने का काम किया। इस राहगिरी में भ्रष्टï्राचार के खिलाफ एक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया। जिसमें लोगों को भ्रष्टï्राचार के खिलाफ अपने अधिकारों के प्रति जागरूक किया गया। इस मौके पर राहगिरी के नोडल अधिकारी डीएसपी लाडवा भारत भूषण, एआईपीआरओ डा.नरेन्द्र सिंह, केडीबी के अधिकारी व कर्मचारी सहित पुलिस विभाग के जवान मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।