गांव छज्जालवड्डी में लुटेरों ने 7लाख 83 हज़ार रुपये लूटे ।
December 7th, 2019 | Post by :- | 79 Views

गांव छजलवडी की पंजाब एंड सिंध बैंक की ब्रांच में हथियारबंद डकैती ।
डकैतों ने लूटे 7 लाख 83 हजार रुपए ।
जाते हुए डकैत ले गए बैंक गार्ड की बंदूक ।

जंडियाला गुरु 7 दिसंबर (कुलजीत सिंह) चोरों डकैतों के हौसले दिन-ब-दिन बढ़ते जा रहे हैं । पुलिस का खौफ बदमाशों में बिल्कुल खत्म होता जा रहा है । इसकी ताजा मिसाल गांव छजलवड्डी में देखने को मिली । इस गांव की पंजाब एंड सिंध बैंक से हथियारबंद डकैतों ने दिनदहाड़े, दोपहर एक से दो बजे के करीब हथियारों की नोक पर 7 लाख 83 हजार रुपए लूट लिए और भागने में सफल रहे । पत्रकारों से बात करते हुए बैंक मैनेजर रामनारायण ने बताया कि वह बैंक के कैशियर के साथ अपने कैबिन में बैठे कुछ काम कर रहे थे, कि तभी 3-4 पिस्तौल धारी व्यक्ति उनके केबिन में घुस आए और उन दोनों को वही काबू कर लिया । कैबिन के बाहर बैठे बैंक के सिक्योरिटी गार्ड को अन्य दो तीन हथियारबंद लोगों ने अपने कब्जे में कर लिया । बैंक मैनेजर के मुताबिक डकैत बैंक से 7 लाख 83000 रुपये लूट कर ले गए। डकैत लूट की वारदात को अंजाम देने के बाद बैंक से सीसीटीवी कैमरे का डीवीआर भी उखाड़ कर ले गए । उन्होंने बताया कि सिक्योरिटी गार्ड की बंदूक भी लुटेरे अपने साथ ले गए । उन्होंने बताया कि घटना के बाद खिलचीयां थाने के थाना प्रभारी पुलिस फोर्स के साथ तुरंत मौके पर पहुंच गए थे ।
क्या कहते हैं एसएसपी :–
हमारे पत्रकार द्वारा जब एसएसपी अमृतसर देहाती विक्रमजीत सिंह दुग्गल से बात की गई, तो उन्होंने कहा कि घटना को अंजाम देने वालों को बहुत जल्द पकड़ कर सलाखों के पीछे डाल दिया जाएगा । उन्होंने कहा कि हमने चारों तरफ अपनी फोर्स को अलर्ट कर दिया है । डकैत ज्यादा दूर तक नहीं जा पाएंगे । पूछे गए एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कोई भी व्यक्ति पुलिस की मदद लेने के लिए हमसे किसी भी समय संपर्क कर सकता है । उन्होंने यह भी कहा कि इलाके में डर का माहौल बिल्कुल भी नहीं है । लोग सामान्य जिंदगी व्यतीत कर रहे हैं ।

कैप्शन :– (1) एस.एस.पी. विक्रमजीत सिंह दुग्गल पत्रकारों को जानकारी देते हुए ।
(2) बैंक मैनेजर घटना की जानकारी देते हुए ।
(3) बैंक के बाहर पहुंची पुलिस फॉर्म ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।