भाजपा सरकार चुनावी घोषणा पत्र के अनुसार किसानों की फसलों का भुगतान 24 घंटें के अन्दर क्यों नहीं कर रही :- वरुण चौधरी
August 25th, 2019 | Post by :- | 80 Views

अंबाला , मुलाना ( गुरप्रीत सिंह मुल्तानी ) ।
हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी सचिव वरुण चौधरी ने भाजपा सरकार को किसान विरोधी बताते हुए कहा कि गन्ना उत्पादक किसान जनवरी से अपने गन्ने की लगभग 100 करोड़ बकाया राशि के भुगतान का अनुरोध कर रहे हैं, लेकिन अभी तक सरकार के कान पर जूँ नहीं रेंगी। गन्ना उत्पादक किसान पिछले कई दिनों से धरने पर बैठे हैं तथा उन्होंने अर्धनग्न होकर जल सत्याग्रह भी किया है , लेकिन सरकार ने इन किसानों को निराश ही किया है तथा उनके गन्ने की बकाया राशि का भुगतान अभी तक नहीं किया गया, हालांकि भाजपा सरकार ने अपने चुनावी घोषणा पत्र के अनुसार किसानों को उनकी फसलों का भुगतान 24 धंटे के अन्दर करने का आश्वासन दिया था।

कांग्रेस सरकार के समय में देश मे सबसे ज्यादा गन्ने की फसल का दाम कांग्रेस सरकार ने देने का काम किया था और कभी भी किसी किसान को अपनी फसल की पेमेंट के लिए दस सालों में कोई आंदोलन नही करना पड़ा समय पर किसानों को फसल की पेमेंट दी जाती थी। पिछली पेमेंट भी किसानों की कांग्रेस सरकार के समय मे मिली थी । अगर किसानों की फसल किसी प्राकृतिक आपदा से खराब हो जाती थी तो उसकी स्पेशल गिरदावरी करवाकर किसानों को मुआवजा दिया जाता था।
उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार का किसान प्रेम नकली है। आज हरियाणा में गन्ना उत्पादक किसान संकट में हैं। सरकार ने गन्ना उत्पादक किसानों को निराश किया है। भाजपा सरकार अपने चुनावी घोषणा पत्र के अनुसार किसानों की फसलों का भुगतान 24 घंटें के अन्दर क्यों नहीं कर रही।भाजपा सरकार पहले ही किसान की फसलों की खरीद में फजिहत करवा चुकी है। सरकार इन किसानों को बकाया राशि की अदायगी करवाने की तुरन्त व्यवस्था करे।चौधरी ने कहा कि
वर्तमान सरकार की गलत नीतियों के कारण किसानों का जीना दुभर हो गया है। किसान अपने गन्ने की फसल की बकाया राशि के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहा है।
सरकार से निराश गन्ना उत्पादक किसान सड़कों पर है। सरकार मिलों से किसानों का बकाया भुगतान नहीं दिलवा पा रही है और न खुद इसके लिए ऋण जुटाने पर गम्भीर दिख रही है। जो भी व्यवस्था करनी है, सरकार शीघ्र करे ताकि किसानों का बकाया मिल सके।
सरकार ने यदि किसान का दर्द समझा होता तो आज गन्ना उत्पादक किसान शुगर मिलों में अपने बकाये के लिये दर-दर की ठोकरें नहीं खा रहे होते। कांग्रेस पार्टी इस घड़ी में गन्ना उत्पादक किसानों के साथ खड़ी है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।