कठूमर थाने में कार्यरत हेड कांस्टेबल प्रताप सिंह को शुक्रवार सुबह एसीबी की टीम ने मारपीट के मामले में नाम निकालने को लेकर ₹4000 की रिश्वत लेते हुए थाने की छत पर रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया।
December 6th, 2019 | Post by :- | 182 Views

कठूमर, अलवर (अशोक भारद्वाज):-
एसीबी के डीएसपी सलेह मोहम्मद ने बताया कि एसीबी कार्यालय पर कठूमर थाना क्षेत्र के गांव मुडिया निवासी देवेंद्र सिंह ने 30 नवंबर को आकर परिवाद प्रस्तुत किया कि 12 नवंबर को उनके चाचा विजय सिंह व नाहर सिंह ने क्षेत्र को लेकर आपस में झगड़ा हो गया था। और दोनों ने एक दूसरे खिलाफ मारपीट के मामले कठूमर थाने में दर्ज कराएं। इन मामलों में मेरा व मेरे भाई का नाम भी शामिल है। इन दोनों मामलों की जांच आरोपी हेड कांस्टेबल प्रताप सिंह कर रहा है। और इस मामले में पिछले पांच सात दिन से घर जाकर हम को गिरफ्तार करने की धमकी दे रहा है। और इस मामले मे परिवादी देवेंद्र सिंह एवं उसके भाई के नाम निकालने को लेकर बीस हजार रुपये की रिश्वत मांगी। लेकिन इतनी राशि देने से मना कर दिया। और मामला ₹5000 में तय हुआ। इस पर आरोपी 1 दिसंबर को उनके घर पर जाकर रिश्वत की राशि ₹1000 की लेकर आया। एसीबी टीम ने इसका सत्यापन मौके पर कराया और शेष राशि ₹4000 अगले दिन कठूमर कस्बे के बाजार में देना तय हुआ लेकिन आरोपी ने 2 दिसंबर को यह रिश्वत नहीं ली उसके बाद 5 दिसंबर को परिवादी देवेंद्र सिंह को फोन किया। अगले दिन 6 दिसंबर शुक्रवार को रिश्वत की शेष राशि ₹4000 देने के लिए कठूमर थाने पर बुलाया। परिवादी कठूमर थाने पर ₹4000 लेकर पहुंचा तो आरोपी प्रताप सिंह ने थाने की छत पर ₹4000 ले लिए और लोअर की जेब में रख लिए। इतने में ही परिवादी ने थाने पर मौजूद एसीबी टीम को इशारा किया तो एसीबी ने आरोपी को रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। इस मामले में एसीबी टीम की ओर से कार्यवाही की जा रही है।
फोटो:- कठूमर थाने में रिश्वत लेने का आरोप हेड कांस्टेबल प्रताप सिंह के विरुद्ध कार्यवाही करती एसीबी टीम।
फोटो:-  चार हजार रूपये की रिश्वत लेते गिरफ्तार हुआ आरोपी कांस्टेबल प्रताप सिंह।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।