आसमान छूती कीमतों पर अंकुश के लिए विभाग ने जमाखोरों के खिलाफ चलाया अभियान।
December 4th, 2019 | Post by :- | 53 Views

प्याज ने निकाले लोगों के आंसू- सब्जी का बिगड़ा जायका।
अंबाला , बराड़ा ( गुरप्रीत सिंह मुल्तानी )
गत कई दिनों से निरंतर बढ़ रही प्याज की कीमतों से त्राहिमाम-त्राहिमाम कर रहे आम जनता की चीख सुनकर खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने प्याज की कीमतों में जमाखोरी पर अंकुश लगाने के लिए बराडा, मुलाना व उगाला क्षेत्र में विशेष अभियान चलाया। संजीव कुमार कुंडू अधीक्षक खाद्य आपूर्ति विभाग अंबाला के नेतृत्व में निरीक्षक विनोद कुमार दुबे, संदीप कुमार उप निरीक्षक तथा जितेंद्र पाल सिंह उप निरीक्षक की टीम ने आज क्षेत्र में विभिन्न फल एवं सब्जी होल सेलर के गोदामों को चेक कर सरकार द्वारा निर्धारित मात्रा की सीमा संबंधी जांच का कार्य किया। आज दिन भर चले चेकिंग अभियान के दौरान बराड़ा सब्जी मंडी के शंकर फूड कंपनी, गणपति वेजिटेबल, कबीर वेजिटेबल एंड फ्रूट्स कंपनी, सतीश कुमार एंड कंपनी, पिंटू एंड कंपनी, मनीष व सुलक्षण कुमार एंड कंपनी के गोदामों में पड़े प्याज की जांच की गई। विभागीय सूत्रों के अनुसार किसी भी व्यापारी के पास सरकार द्वारा निर्धारित भंडारण की मात्रा से अधिक प्याज नहीं पाया गया।
केंद्रीय सरकार द्वारा प्याज के अधिकतम भंडारण की सीमा निर्धारित:
खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के अधिकारियों ने बताया कि केंद्र सरकार द्वारा थोक व्यापारी के लिए 5 सौ किवंटल व खुदरा व्यापारी के लिए 100 किवंटल अधिकतम भंडारण सीमा निर्धारित की गई है। ताकि जमाखोरी पर अंकुश लगाया जा सके। निर्धारित मात्रा से अधिक भंडारण पाए जाने जाने के दोषी व्यापारियों के विरुद्ध जमाखोरी व ब्लैकमेल करने के कानून के अंतर्गत दंडात्मक कार्यवाही की जाएगी। सूत्रों की मानें तो बराड़ा के ग्रामीण में छोटे व्यापारी खुदरा व्यापारी होने के कारण तथा प्याज की आसमान छूती कीमतों के चलते प्याज की बिक्री सीमित होने के चलते स्थानीय व्यापारी प्याज का अधिक स्टॉक नहीं कर रहे। अधिकतर जमाखोरी व विशाल भंडारण दिल्ली व अन्य बड़े शहरों के स्टाकिस्टों द्वारा करके भारी मुनाफा कमाया जा रहा है।

प्याज की बेतहाशा बढ़ती कीमतों के चलते जमाखोरी के विरुद्ध व्यापक अभियान के अंतर्गत क्षेत्र की मंडियों में चेकिंग अभियान चलाया गया है। जो मूल्य नियंत्रित होने तक भविष्य में भी जारी रहेगा।: विनोद दुबे खाद्य आपूर्ति निरीक्षक बराड़ा

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।