जनजातीय संस्कृति के लोक नृत्यों एवं पारम्परिक खेलो ने जमाया रंग जिला स्तरीय युवा महोत्सव एंव नेषनल ट्राइबल डांस फेस्टिवल का हुआ रंगारंग शुभारंभ
December 3rd, 2019 | Post by :- | 129 Views

छत्तीसगढ़ (कोंडागांव)@ नरेश जैन -दिसम्बर को जोहार एथनिक रिसाॅर्ट कोण्डागांव मे जिला प्रशासन व खेल एंव युवा कल्याण विभाग द्वारा कलेक्टर श्री नीलकण्ठ टीकाम के उपस्थिति मे जिलास्तरीय युवा महोत्सव एंव नेशनल ट्राइबल डांस फेस्टिवल ’’बस्तर काॅर्निवल 2019’’ का शुभारंभ हुआ। इस अवसर पर एक दिवसीय फेस्टिवल में जिले के कोण्डागांव, माकड़ी, फरसगांव, केशकाल, बड़ेराजुपर, विकासखण्डो के विभिन्न ग्रामो और क्षेत्रो के 15 जनजातीय नृत्य समूहो ने शिरकत की। इस दौरान विभिन्न विधाओ जैसे लोकगीत, एकांकी नाटक, चित्रकला, फुड फेस्टिवल, वाद विवाद प्रतिायोगिता, पांरम्परिक वेशभूषा प्रतियोगिता एंव पांरम्परिक खेलो आदि का आयोजन हुआ। पांरम्परिक नृत्यो मे माटी मांदरी, गुटा मांदरी, मांदरी, राउत नाचा, सुआ नृत्य, आदि की प्रस्तुति की गई। पांरम्परिक खेलो को विशेष महत्व देते हुए फुगड़ी, भौंरा, गेड़ी दौड़, खो-खो, कबड्डी आदि का आयोजन किया गया। कलेक्टर श्री नीलकंठ टीकाम ने इस अवसर पर कहा कि कोण्डागांव जिले का यह एक मात्र अनुठा आयोजन है जहां सभी ब्लाॅको से आये हुए कलाकारो ने अपने कला प्रदर्शन, पारम्परिक वेशभूषा एवं सांस्कृतिक प्रस्तुति से कार्निवल के स्वरुप को साकार कर दिया। चूंकि आदिवासी लोककला परम्परा और संस्कृति के संवर्धन के लिए शासन द्वारा राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य का आयोजन किया जा रहा है और इसके जरिये उन्हें एक मंच देना राज्य शासन की प्रमुख मंशा है। ताकि आने वाली पीढ़ी अपनी संस्कृति के स्वरुप को देखकर अपनी सांस्कृतिक सभ्यता से परिचित होकर वे गर्व महसूस कर सके।

लोकनृत्य में झलका स्थानीय पर्वो का उत्साह
इस दौरान स्थानीय पर्वो के अवसर पर प्रस्तुत किए जाने वाले लोक नृत्यों में कोण्डागांव से दुर्जन नेताम एंव साथी, केशकाल से चेतन पाण्डे एंव साथी, माकड़ी से युक्ती चैहान एंव साथी, फरसगांव से गुट्टापर्रा दल, ग्राम कोपरा एंव इंगरा के प्रतिभागियो द्वारा राउत नाचा तथा गुट्टापर्रा दल द्वारा भिरमिण्डा नृत्य, लोकगीतो में जयकिशन मार्कण्डेय एंव साथी, बड़ेराजपुर से राजूराम एंव साथी, माकड़ी से मनीष एंव साथी तथा फरसगांव से योगेश्वरी पाण्डे एंव साथी द्वारा किए गए प्रदर्शन ने कार्निवल की रंगत बढ़ा दी। साथ ही बांसुरी वादन प्रतियोगिता में बडे़राजपुर से चंदन मरकाम, माकड़ी से जागेश्वरी सोरी, फरसगांव से शांन्तनु यादव, कोण्डागांव से दामोदर पटेल थे तथा तबला वादन प्रतियोगिता मे शीतल साहू, भारोस चक्रधारी, लोकेश गंर्धव, जयराम मरकाम, दिनेश साहू ने सु-मधूर गीतो और वादन से लोगो का दिल जीत लिया। इस दौरान एकांकी नाटक विधा मे कोण्डागांव से रामेश्वरी एंव साथी, केशकाल से विजय कुमार एंव साथी, माकड़ी से रमेश नेताम द्वारा अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया गया और मौके पर फूड फेस्टिवल में पारम्परिक व्यंजनो का भी आगंतुको ने भरपूर लुत्फ उठाया। आयोजन में  विभिन्न प्रकार की खेल जैसे खो-खो, कबड्डी, चित्रकला, क्वीज प्रतियोगिताऐं भी छात्र-छात्राओं के लिए रखी गई थी।

संभाग स्तर पर इन लोक नृत्य दलों का हुआ चयन  
लोक नृत्य में निर्णायक दलो द्वारा किए गए चयन के फलस्वरुप केशकाल के बिंझे, चिखलाडीही, और कानागांव के ‘हुल्की‘ नृत्य, छोटेराजपुर और कोनगुड़ को ‘कोलांग‘ ग्राम कोपरा के राउत नाचा को क्रमशः प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान मिला। जिन्हें अब संभाग स्तर पर प्रदर्शन हेतु चयन किया गया। इस अवसर पर सहायक आयुक्त आदिवासी विकास जी.आर.सोरी, जिला शिक्षा अधिकारी राजेश मिश्रा, खेल अधिकारी सुधराम मरकाम सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।