जीवन बीमा करवाया नहीं बैंक खाते से कट रही है बीमा की किस्त।
December 2nd, 2019 | Post by :- | 144 Views

एक दम्पत्ति काट रहा है बैंक व बीमा कार्यालय के चक्कर।प्याज के मुद्दे पर राज्यसभा सांसद संजय सिंह की प्रेस कॉन्फ्रेंस
बराड़ा, (जयबीर राणा थंबड़)    कस्बा के एक दंपत्ति गत कई माह से बैंक द्वारा जीवन बीमा की किस्त काटे जाने से मध्यमवर्गीय परिवार शारीरिक, मानसिक व आर्थिक हानि का ह्यास भोग रहा है। पीड़ित नरेश धारू ने अपनी व्यथा सुनाते हुए बताया कि उसका नरेश धारू सुपुत्र ज्ञान चंद वासी वाल्मीकि नगर बराड़ा तथा पूजा पत्नी नरेश दारू के नाम से कस्बा के मुख्य बाजार में पीएनबी बैंक की शाखा में वर्ष 2017 में दो खाते खुलवाए थे।

उसके कभी भी एलआईसी अथवा अन्य किसी बीमा कंपनी से बीमा नहीं करवाया। इसके बावजूद गत जुलाई माह से उसके पत्नी के खाते में से हर माह एलआईसी किस्त काटी जा रही हैं। जब उसने बैंक से अपनी बैंक कॉपी चेक करवाई तो उसे किस्त काटने की बात से हैरत हुई। बैंक कर्मचारियों से संपर्क करने पर उन्होंने बताया कि आपने एलआईसी कार्यालय को चेक दे रखे हैं। जबकि बैंक द्वारा कभी भी चेक बुक जारी भी नहीं की गई। हताश होकर उसने एलआईसी कार्यालय से संपर्क किया तो बीमा कंपनी के अधिकारियों ने बताया कि ऐसा अन्य कहीं ग्राहकों को साथ घटित हो चुका है। इसका एकमात्र हल है कि आप अपना बैंक खाता बंद करवा दें। नरेश धारू गांव से किराने की छोटी सी दुकान चलाता है जबकि उसकी पत्नी पूजा सक्षम योजना के अंतर्गत कार्य करती है। रोज दुकान बंद कर बैंक व बीमा कम्पनियों के चक्कर काटने को विवश है।

लेकिन समस्या का हल नहीं निकल रहा। नरेश धारू इस बात को लेकर परेशान है कि एक और सरकार जीरो बैलेंस पर जन धन योजना के तहत सभी को बैंक खाता खुलवाने के लिए प्रेरित कर रही है। वहीं दूसरी ओर उसे बैंक खाता बंद करवाने को विवश किया जा रहा है। वह असमंजस में है कि यदि वह बैंक खाता बंद कर देगा तो उसकी पत्नी को सक्षम योजना के अधीन मिलने वाली मानदेय राशि कैसे मिलेगी। गत कई दिनों से दंपत्ति बैंक बीमा कार्यालय के बीच चक्कर काट रहे हैं परंतु कहीं से भी उन्हें संतोषजनक उत्तर नहीं मिल पा रहा।

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।