हरियाणा की निर्माणाधीन 4 मंडियों में लाई जाएगी तेजी -कृषि मंत्री ने चंडीगढ़ से लोहारू जाते हुए कैथल कोयल कॉम्प्लेक्स  में की पत्रकारों से बातचीत
December 2nd, 2019 | Post by :- | 91 Views

कैथल(लोकहित ,ब्यूरो चीफ विशाल चौधरी) |कृषि मंत्री जे.पी. दलाल ने कहा है कि किसानों का उत्पादन बढ़े और लागत भी कम हो, इसके लिए हम पॉलिसी तैयार कर रहे हैं। इस तरफ ध्याना देना है कि किसान को जो खाद मिले, बीज मिले और जो उसकी बिजली-पानी का खर्चा है, उसकी लागत कम हो। जो किसान का उत्पादन है, उसकी वैल्यू किसान को ज्यादा मिले। उसके लिए मंडियां विकसित हों। इसके अलावा किसानों को धान व गेहूं की खेती के अलावा फुलों की खेती, फलों की खेती, जैविक खेती, पशु पालन, मधुमक्खी पालन की तरफ प्रोत्साहित किया जाएगा, ताकि इससे उनकी आमदनी बढ़े और किसान खुशहाल हो। कृषि मंत्री जेे.पी. दलाल चंडीगढ़ से लोहारू जाते हुए कैथल कोयल काम्ॅपलैक्स में रूके। कैथल पहुंचने पर विधायक लीला राम गुर्जर ने कृषिमंत्री का स्वागत किया। यहां पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए कृषिमंत्री जे.पी. दलाल ने कृषि योजनाएं के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास रहेगा कि हर जिले में स्कील के लिए एक ट्रेङ्क्षनग सैंटर भी हो, जिसमें युवा किसानों को आधुनिक खेती के बारे में पूर्ण जानकारी दी जा सके। मेरी मुख्यमंत्री से हरियाणा में निर्माणाधीन चार मंडियों के बारे में बातचीत हुई है। इनका पिछले 10 सालों से काम अटका हुआ है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर की सबसे बड़ी मंडी जो 4 हजार करोड़ रुपए की लागत से बननी है, उसका काम अधूरा पड़ा है। ङ्क्षपजौर में एप्पल मार्कीट, गुड़ागांव में फुलों की मंडी व सोनीपत में मसालों की मंडी बननी है, जो अटकी हुई है। इनका निर्माण कार्य पूरा होने से किसानों को लाभ भी होगा और उनकी आमदनी भी बढ़ेगी। इस समय हमारी ज्यादातर फसल, सब्जी एवं फल दिल्ली जाता है। अगर हरियाणा में मंडियां होंगी तो यहां के लोगों को रोजगार मिलेगा और किसानों को ज्यादा रेट।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।