कॉलेज प्रशासन की लापरवाही धरने पर सड़क पर 2 दिन से बैठे है छात्र छात्राएं कॉलेज प्रबंधक से धक्का-मुक्की
November 30th, 2019 | Post by :- | 64 Views

अकबरपुर,मथुरा  (राजकुमार गुप्ता )छाता तहसील के अंतर्गत नेशनल पर एसकेएस कॉलेज में बीएएमएस के छात्र व छात्राओं ने कॉलेज प्रशासन की मनमानी को लेकर स्ट्राइक की है. मिली जानकारी के अनुसार छात्र छात्राओं ने कहा कि हम यहां से जब तक नहीं जाएंगे जब तक कॉलेज के चेयरमैन हमसे आकर नहीं मिल लेते लेकिन अभी तक  कॉलेज प्रशासन का कोई भी कर्मचारी छात्र छात्राओं से मिलने नहीं आया. वैसे तो उत्तर प्रदेश सरकार में महिलाओं की सुरक्षा की बात कही जाती है। लेकिन इसी सरकार में छात्राएं अभी रोड किनारे बैठी हुई है अगर उनके साथ कोई भी अनहोनी हो जाती है तो उनका जिम्मेदार कौन लोग होगे । तहसील के नेशनल हाईवे 2 पर स्थित एसकेएस आयुर्वेदिक कॉलेज पर रात्रि होने के बावजूद भी अभी बच्चे अभी तक अपने घर नहीं गए और ना ही बच्चों ने स्ट्राइक खत्म की. लेकिन अभी भी छात्रों की जो मांग है अभी तक पूरी नहीं हुई और ना ही छात्रों से मिलने के लिए कॉलेज के चेयरमैन छात्रों के बीच पहुंचे हैं. वही छात्रों ने भी यह निर्णय किया है कि जब तक कॉलेज चेयरमैन हमारे बीच नहीं आएंगे तब तक हम स्ट्राइक खत्म नहीं करेंगे बीएएमएस के छात्रों ने आज धरना प्रदर्शन किया. छात्रों ने बताया कि यह धरना प्रदर्शन कॉलेज प्रशासन उनके साथ मनमानी करता है और उनसे फीस के नाम पर एक्स्ट्रा पैसे ले लिए जाते हैं ।लेकिन उसके बावजूद भी उन्हें कोई भी ना तो सुरक्षा मुहैया कराई जाती है और ना ही कोई मदद की जाती है. छात्रों ने बताया कि इस बार इस कॉलेज का रिजल्ट मात्र दो पर्सेंट आया इसी बात का विरोध करते हुए छात्रों ने कॉलेज के मेन गेट पर धरना प्रदर्शन किया और कहा कि जब तक हम से कॉलेज चेयरमैन नहीं मिलेगा तब तक हम धरने पर ही बैठे रहेंगे. बीएएमएस के छात्रों द्वारा चल रहे धरने पर चेयरमैन एसके शर्मा पहुंचे । एसके शर्मा ने छात्रों के समस्या के समाधान के लिए 3 दिसंबर तक का समय मांगा। तो उनकी बातों से अंसतुष्ट छात्रों ने चेयरमैन एसके शर्मा पर हाथ छोड़ते हुए मारपीट कर दी। चेयरमैन के बचाव में आए कॉलेज फैकल्टी ने छात्रों के साथ मारपीट करना शुरू कर दिया। और घटनास्थल पर मौजूद पुलिस मूकदर्शक बनी रही। घायलों को केडी हॉस्पिटल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती करा ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।