रायपुररानी की समस्याओं को लेकर सरपंचों के साथ डीसी से मिले विधायक प्रदीप चौधरी
November 27th, 2019 | Post by :- | 107 Views

-कई बदहाल सड़कों को लेकर की चर्चा

रायपुर रानी, लोकहित एक्सप्रेस (अंकित कौशिक)
रायपुररानी क्षेत्र कि समस्याओं को लेकर आज ब्लॉक के कई सरपंचों के साथ कालका विधानसभा क्षेत्र के मौजूदा विधायक प्रदीप चौधरी ने डीसी मुकेश कुमार से मुलाकात की और समस्याओं संबंधी चर्चा भी की गई। इस दौरान उनके साथ पंचायत संगठन रायपुररानी के प्रधान शरणजीत काका, सरपंच शीशपाल राणा, सरपंच स्वर्ण जीत कौर, सरपंच मदन लाल, सरपंच रामनाथ, सरपंच नसीब सिंह, सरपंच मुकेश छाबड़ा, सरपंच जसविंदर सहित काफी संख्या में सरपंच भी मौजूद थे। इस दौरान समस्याओं पर विचार विमर्श करते हुए प्रदीप चौधरी ने डीसी के समक्ष कहा कि आज किसान आवारा पशुओं से बेहद परेशान है, जिसकी फसल को यह पशु बर्बाद कर रहे हैं। इसलिए भारी संख्या में जो आवारा पशु रायपुररानी बरवाला क्षेत्र की तरफ घूम रहे हैं, इन पर नकेल कसनी चाहिए। जिस पर डीसी ने कहा कि वह इस समस्या को लेकर अपनी ओर से जो भी कार्रवाई होगी वो करेंगे। इसके बाद प्रदीप चौधरी ने कहा कि सड़कों की समस्या काफी गंभीर समस्या है। जिसको लेकर प्रदीप चौधरी ने रायपुररानी से टोका और टपरिया से रत्तेवाली, रामपुर से काजमपुर, रायपुररानी से नारायणपुर, हंगोली से हंगोला सहित कई सड़कों का निर्माण किए जाने की बात कही। जिस पर डीसी ने कहा कि वह जल्द पीडब्ल्यूडी अधिकारियों के साथ मीटिंग कर इन सड़कों का काम करवाने के लिए बात करेंगे। इसके बाद प्रदीप चौधरी ने ओवरलोड टिप्परों पर नकेल कसने की बात कही। जिस पर डीसी ने कहा कि रोड सेफ्टी के साथ मीटिंग कर इस समस्या पर कार्यवाही शुरू कर दी है। इसके बाद प्रदीप चौधरी ने कहा कि किसानों को कृषि विभाग बिल्कुल भी जागरूक नहीं करता और किसानों के ऊपर पराली जलाने के केस दर्ज किए गए। किसान पहले ही फसल को लेकर आ रही परेशानियों से दुखी है ऐसे में किसान को कृषि विभाग जागरूक करने का काम करें ना कि बिना किसान को जागरूक किए इस प्रकार से कानूनी कार्यवाही करें । वहीं प्रदीप चौधरी ने जासपुर में बन रहे चंडीगढ़ पोल्ट्री स्लॉटर हाउस को लेकर भी चर्चा करते हुए बताया कि इसके आसपास के लोग स्लाटर हाउस को लेकर चिंतित है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।