भारतीय सेना व भारत सरकार के फर्जी दस्तावेज बनाने वाली गैंग का पर्दाफाश, दो गिरफ्तार
November 27th, 2019 | Post by :- | 100 Views

गंगापुर सिटी (सीताराम गर्ग)। एटीएस कोटा यूनिट द्वारा भारतीय सेना व भारत सरकार के फर्जी दस्तावेज बनाने वाले गिरोह का पर्दाफाश कर जिला पुलिस के सहयोग से हिंडौन सिटी में 2 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया। अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस, एटीएस एवं एसओजी श्री अनिल पालीवाल ने बताया कि विगत कुछ समय से करौली जिले के हिण्डौन सिटी कस्बे व आस-पास के गॉवों में कुछ व्यक्तियों के संगठित गिरोह संचालित कर भारतीय सेना व भारत सरकार गोपनीय दस्तावेजों को फर्जी तरीके से तैयार करने तथा इसके साथ ही फर्जी आधार कार्ड, भामाशाह कार्ड, विभिन्न विश्वविद्यालयों व बोर्ड की मार्कशीट व प्रमाण पत्रों में हेराफेरी कर फर्जी दस्तावेज तैयार करने की सूचना मिली थी। इस सूचना पर पुलिस अधीक्षक एटीएस के निर्देशन में एटीएस यूनिट कोटा की एक टीम तैयार की जाकर हिण्डौन व उसके आस-पास के गॉवों में करीब डेढ माह तक गोपनीय रूप से आसूचना संकलन का कार्य किया गया। श्री पालीवाल ने बताया कि प्राप्त सूचना की पुष्टि होने पर जिला पुलिस के सहयोग से आज हिण्डौन नई मण्डी के सामने स्थित चामुंडा कॉम्पलेक्स स्थित शांतिनाथ कम्प्यूटर शॉप से दुकान संचालक शैलेश पुत्र जिनेश जैन (38) निवासी वार्ड नं0 1, वर्धमान नगर, थाना नई मण्डी, हिण्डौन सिटी व सहीराम पुत्र बबलू सिंह (34) निवासी तिघरिया, थाना बालघाट जिला करौली को गिरफ्तार कर इनके कब्जे से इनके द्वारा निर्मित आर्मी की फर्जी डिस्चार्ज डायरियॉ, भारतीय सेना की सील मोहरें, सेना के आईडी कार्ड बरामद किये गये। इसके अतिरिक्त विभिन्न स्कूलों की रबर स्टॉम्प, मार्कशीटें बरामद की गई। उन्होंने बताया कि अभियुक्तों के कब्जे से बरामद लैपटॉप मोबाईल फोन में विभिन्न बोर्ड व विश्वविद्यालयों के दस्तावेजों के रूप में फर्जी रूप से तैयार की गई फोटोंकापियॉ पाई गई। इसके अलावा आधार कार्ड, भामाशाह कार्ड, वाहनों की आर0सी की फोटोंकापियॉ भी पाई गई। इस संबंध में थाना हिण्डौन पर प्रकरण दर्ज करवाया गया।
अभियुक्तों से बरामद गोपनीय दस्तावेजों व फर्जी दस्तावेजों के संबंध में व गिरोह के अन्य सदस्यों के संबंध में गहन पूछताछ जारी है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।