बुढ़ापा सम्मान भत्ता के तहत आयु का आंकलन करने हेतू प्रत्येक वीरवार को मैडीकल बोर्ड का आयोजन होता है जिसमें पहले आवेदक इस कार्यालय में प्रार्थना पत्र प्रस्तुत करता है-जिला समाज कल्याण अधिकारी
November 25th, 2019 | Post by :- | 76 Views

अम्बाला: अशोक शर्मा

जिला समाज कल्याण अधिकारी ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से बताया कि बुढ़ापा सम्मान भत्ता के तहत आयु का आंकलन करने हेतू प्रत्येक वीरवार को मैडीकल बोर्ड का आयोजन होता है जिसमें पहले आवेदक इस कार्यालय में प्रार्थना पत्र प्रस्तुत करता है उसके उपरांत सभी दस्तावेज चैक करने के उपरांत मैडीकल बोर्ड के पास आंकलन हेतू भिजवाया जाता है, लेकिन इस बार 28 नवम्बर को जिला समाज कल्याण अधिकारी के चण्डीगढ़ मुख्यालय पर आयोजित बैठक में होने के कारण आयु के आंकलन हेतू निर्धारित वीरवार 28 नवम्बर की जगह अब 27 नवम्बर को दिन बुधवार को मैडीकल हेतू दस्तावेजों की जांच का कार्य पूर्ण किया जायेगा ताकि किसी भी प्रार्थी को उक्त बारे असुविधा न हो।
अम्बाला, 25 नवम्बर:- जिला एवं सत्र न्यायाधीश व अध्यक्ष, जिला सेवा प्राधिकरण कमल कांत के निर्देशानुसार सी जे एम एवं सचिव जिला सेवा प्राधिकरण अम्बाला दानिश गुप्ता आज एस ए जैन स्कूल पहुचें। जहां उन्होंने कानूनी साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। उन्होंने विद्यार्थियों को संविधान दिवस की शुभकामनाएं दी और बताया कि हर वर्ष 26 नवम्बर को संविधान दिवस मनाया जाता है। उन्होंने विद्यार्थियों को जिला सेवा प्राधिकरण द्वारा प्रदान की जाने वाली सुविधाओ की जानकारी दी और बताया कि कोई भी व्यक्ति जिसकी सलाना आय 3 लाख से कम है, वह मुफ्त कानूनी सेवाओं का हकदार है। इसके अलावा कोई भी स्त्री, वरिष्ठ नागरिक, स्वतंत्रता सैनानी, एस सी, बी सी, किन्नर वर्ग भी मुफ्त कानूनी सेवाओ का हकदार हैं। उन्होनें यह भी बताया कि कोई भी व्यक्ति जिला ए डी आर सैंटर मे कानूनी सहायता केंद्र पर मुफत कानूनी सलाह प्राप्त कर सकता है। उन्होने विद्यार्थियों को मौलिक कर्तव्यों से अवगत करवाया और बताया कि 66वे संविधान संशोधन में मौलिक कर्तव्यों की संख्या 10 से बढ़ाकर 11 कर दी गई है। जिनमें संविधान की अनुपालना, स्वाधीनता संग्राम के प्रेरक, महान आदर्शो का अनुगमन करना, देश की समप्रभुता, एकता एवं अखंडता को अक्षुण एवं सुरक्षित रखना, राष्ट्र की सुरक्षा एवं सेवा करना, भ्रातृृत्व की भावना का विकास, संस्कृति व परम्पराओं का महत्व समझना, पर्यावरण की सुरक्षा, वैज्ञानिक दृृष्टिकोण मानवतावाद व सुधार की भावना का विकास, सार्वजनिक सम्पति की सुरक्षा एवं हिंसा का परित्याग, व्यक्तिगत एवं सामूहिक गतिविधियों के लिए प्रयत्न करना और छह से चौदह वर्ष की आयु के बच्चों के लिए शिक्षा का अधिकार शामिल है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।