यातायात पुलिस जयपुर एवं इन्सटीट्यूट ऑफ रोड ट्रेफिक एजुकेशन(आइआरटीई) के संयुक्त तत्वावधान में हुआ कार्यशाला का आयोजन
November 21st, 2019 | Post by :- | 103 Views

जयपुर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । यातायात पुलिस जयपुर एवं इन्सटीट्यूट ऑफ रोड ट्रेफिक एजुकेशन(आइआरटीई) के संयुक्त तत्वावधान में शहर में संचालित विधालयों के शिक्षकों एवं यातायात पुलिस में पदस्थापित चालानकर्ता अधिकारियों हेतु दिनांक21 एवं 22नवम्बंर को मोहनलाल सुखाडि़या मेमोरियल हॉल,द्वितीय तल राजस्थान चैम्बर ऑफ कॉमर्स एण्ड इन्डस्ट्री,अजमेरी गेट के सभागार में दो दिवसीय स्कूथल कांन्‍क्‍लेव व फॉर रोड सेफटी एवं नये मोटर व्‍हीकल एक्ट के सम्बन्ध में कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। कार्यशाला के शुभारम्भ करते हुए पुलिस उपायुक्त यातायात श्री राहुल प्रकाश ने कार्यशाला के महत्व के जानकारी देते हुए बताया कि यदि हम विधि का शासन चाहते है तो हम सभी को विधि का सम्मान करना चाहिए एवं यातायात नियमों का पालन करना चाहिए। आइआरटीई के हेड विषय विशेषज्ञ श्री रोहित बलूजा ने प्रतिभागियों को नये मोटर व्हीकल एक्ट के विभिन्न प्रावधानों एवं उनके सेक्शन्स की सविस्तार जानकारी दी। साथ ही नये नियमों के सम्बन्ध में उनकी शंकाओं का समाधान किया। उन्होेने बताया कि अगर किसी वाहन में सीट बैल्ट दी गई है तो अब यह ड्राइवर की जिम्मेदारी है कि वह सभी यात्रियों का सीट बैल्ट लगाया जाना सुनिश्चित करे साथ ही‘मोटरव्हीकल्स(ड्राइविंग) रेग्यूलेशन्स 2017’ के अन्तर्गत ड्यूटीज ऑफ ड्राइवर एंड राइडर्स,ओवरटेकिंग,स्पीड,राइट ऑफ द वे,लेन ड्राइविंग, पार्किंग आदि के ऐसे ही नये नियमों के सम्बंध में प्रतिभागियों को ऑडियो विजुअल माध्यमों से सड़क पर व्यावहारिक परिस्थितियों के बारे में जानकारी दी गई।
कार्यक्रम में अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त यातायात उत्तर श्री सतवीर सिंह एवं अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त यातायात दक्षिण श्री ललित किशोर शर्मा ने सम्बोधन में उपस्थित यातायात पुलिसकर्मियों को इस प्रशिक्षण का अधिक से अधिक लाभ उठाने एवं सड़क पर यातायात नियमों की पालना करवाने का आह्वान किया। इस कार्यशाला के प्रथम दिन को शहर के 120 विधालयों के शिक्षक एवं यातायात पुलिस में पदस्थापित 100 चालानकर्ता अधिकारी उपस्थित रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।