4 से 400 और एक दिन चार हज़ार मेवात की बेटियां भी पढेंगी इस कॉलेज में
November 21st, 2019 | Post by :- | 98 Views

मेवात (सद्दाम हुसैन)  नूह विधायक व सीएलपी हरियाणा के डिप्टी लीडर चौधरी आफताब अहमद ने सालाहेडी के महिला कॉलेज का दौरा किया और वहां पढ़ रही बेटियों से तालीम पर बातचीत की, जहां कॉलेज के प्राचार्य डॉ रफीक अहमद व प्रोफेसर मुस्ताक़ अहमद ने उनका स्वागत किया।

चौधरी आफताब अहमद ने कहा कि 2014 में उन्होंने अपने कांग्रेस कार्यकाल में मेवात की बेटियों की तालीम को पंख लगाने के लिए इस महिला कॉलेज की सौगात दी थी और आज उन्हें बेहद फक्र है कि चार बेटियों से शुरू हुआ सफ़र अब चार सौ बेटियों तक पहुंच गया है।

बता दें कि अभी महिला कॉलेज नूह में चार सौ छात्राएं तालीम ले रही हैं। चौधरी आफताब अहमद ने कहा कि बेटा और बेटी एक समान हैं और मेवात में भी अब बेटियां तालीम के लिए आगे बढ़ चढ़ कर आगे आ रही हैं, हमारा जो मकसद था आज पूरा होता नज़र आ रहा है लेकिन अभी बहुत कुछ करना बाकी है। आफताब अहमद ने कहा कि कॉलेज को और यहां की छात्राओं को जो भी जरूरत तालीम को आगे बढ़ाने की होगी वो उसे हमेशा पूरा करने में जी जान लगा देंगें।

आफताब अहमद ने कहा कि शिक्षा के साथ साथ बेटियों के खेल कूद की और व्यवस्था इस कॉलेज में कराने का काम हम करेंगें। यहां की बेहतर गुणवत्ता पूर्वक शिक्षा के लिए वो यहां के शिक्षकों व छात्राओं के साथ मिलकर काम करेंगे।आफताब अहमद ने कहा कि मेवात का विकास सिर्फ तालीम से ही संभव है और उसमें बेटियों की शिक्षा भी बेहद महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि उन्होंने अपने कांग्रेस के कार्यकाल में कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय शुरू कराया और पहला बारहवी कक्षा तक का विद्यालय सिर्फ मेवात में दिया गया था। इसके साथ साथ मेवात इंजीनियरिंग कॉलेज पल्ला, शहीद हसन खान मेवाती मेडिकल कॉलेज नल्लहड, कई बहु तकनीकी संस्थान मालब, इंड्री, मानू संस्थान, आरोही मॉडल स्कूल, सैंकड़ों स्कूल अपग्रेड

 हुए, मेवात को ऐतिहासिक शिक्षा का कैडर मिला, इसके साथ दर्जनों बड़ी सौगात मिली थी।

विधायक आफताब अहमद ने कहा कि महिला कॉलेज के बगल में केंद्रीय विद्यालय हमने मंजूर किया था लेकिन बीजेपी ने पांच साल में कुछ भी नहीं किया, नर्सिंग कॉलेज व डेंटल कॉलेज हमने मंजूर किए उसमें भी बीजेपी ने एक ईंट नहीं लगाई जो शर्मनाक है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।