किसानों के कर्ज़ माफ किए जाएं और पराली जलाने के केस वापिस लिए जाएं ।
November 21st, 2019 | Post by :- | 98 Views

किसानों के कर्ज माफ किए जाएं तथा पराली सड़ने के केस वापस लिए जाएं :– किसान जथेबंधिया ।

27 नवंबर को डीसी दफ्तरों के सामने दिए जाएंगे धरने।

जंडियाला गुरु 21 नवंबर (कुलजीत सिंह) आज यहां दिल्ली आधारित किसान जत्थेबंदियों के तालमेल संगठन की मीटिंग साथी गुरभेज सिंह की अध्यक्षता में हुई । इस विषय में जानकारी देते हुए ऑल इंडिया किसान सभा के लखबीर सिंह निजामपुरा ने बताया कि दिल्ली आधारित किसान जत्थे बंदियों के तालमेल संगठन की मीटिंग में किसानों की मांगों के संबंध में विचार विमर्श किया गया ।उन्होंने कहा कि इस मीटिंग में फैसला किया गया कि संगठन द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर किसान मसलों के ऊपर जिला हेड क्वार्टर पर 27 नवंबर को धरने देने का आमंत्रण दिया गया है । उन्होंने कहा कि इसी संबंध में अमृतसर के डी.सी. दफ्तर के सामने धरना देकर मांग पत्र दिया जाएगा । इन मांग पत्रों में केंद्र तथा पंजाब सरकार से मांग की जाएगी कि स्वामीनाथन कमीशन की रिपोर्ट लागू की जाए । किसानों का हर किसम का कर्जा माफ किया जाए। धान उत्पादकों को पराली की संभाल के लिए 200रुपय प्रति क्विंटल बोनस दिया जाए तथा किसानों पर पराली जलाने के दर्ज किए गए मामले वापस लिए जाएं।गन्ना उत्पादक किसानों के पिछले बकाए तुरंत दिए जाएं । गन्ने का कम से कम 500रुपय क्विंटल भाव तय करके खरीद की जाए। बासमती की कम से कम 5000रुपय कीमत तय की जाए तथा उसकी खरीद की जाए। जिससे किसानों की मंडियों में हो रही लूट को रोका जा सके। आज की मीटिंग में जंमहूरी किसान सभा की ओर से डॉक्टर सतनाम सिंह अजनाला, रतन सिंह रंधावा ,ऑल इंडिया किसान सभा की ओर से लखबीर सिंह निजामपुरा, बलकार सिंह, मंगल सिंह, किरती किसान यूनियन द्वारा जोगिंदर सिंह, किसान संघर्ष कमेटी (आजाद) की ओर से हरजीत सिंह दलबीर सिंह किसान संघर्ष कमेटी की ओर से अंग्रेज सिंह चाटीविंड, तरसेम सिंह, जगजीत सिंह इत्यादि शामिल हुए ।
कैप्शन:– किसान जथे बंदियों के नुमाइंदे 27 नवंबर को दिए जाने वाले धरने के विषय में जानकारी देते हुए ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।