अंत्योदय सरल केंद्र कालका के कर्मचारियों की लापरवाही से नहीं बन पा रहे वरिष्ठ नागरिकों के पहचान पत्र।
November 21st, 2019 | Post by :- | 306 Views

कालका (चन्द्रकान्त शर्मा)

अंत्योदय सरल केंद्र कालका के कर्मचारियों की लापरवाही का एक मामला सामने आया है। कालका बसंत विहार निवासी पारस गुप्ता ने बताया कि उन्होंने अपने पिता नरेंद्र पाल गुप्ता का वरिष्ठ नागरिक पहचान पत्र बनवाने के लिए फाइल तैयार कर एसडीएम प्रांगण में स्थित अंत्योदय सरल केंद्र में दिनांक 19-08-2019 को जमा करवाई थी, जिसका रिसिप्ट नंम्बर HRISCIC/2019/15512 है। कुछ समय बाद पारस गुप्ता पंचकूला स्थित विभाग के कार्यालय में अपने पिता के पहचान पत्र बारे जानकारी लेने गए तो सम्बंधित अधिकारी ने बताया कि अभी नहीं बना है कुछ समय और लगेगा। पारस गुप्ता ने बताया कि कुछ दिनों के बाद उनके पिता नरेंद्र पाल गुप्ता के मोबाइल नंम्बर 9518057992 पर विभाग की और से एक मैसेज आया जिसमे कहा गया था कि आवेदन पत्र रद्द कर दिया गया है।

उस उपरांत पारस गुप्ता ने विभाग के कस्टमर केयर नंम्बर 1800-2000-023 पर संपर्क कर जानकारी जाननी चाही तो उन्हें बताया गया कि नरेंद्र पाल गुप्ता का वरिष्ठ नागरिक पहचान पत्र की फाइल कालका सरल केंद्र से उनके विभाग में नहीं पहुंची है, जिस कारण उनका पहचान पत्र नहीं बन पाया है। पारस गुप्ता ने बताया कि दिनांक 11-10-2019 को वह पंचकूला सचिवालय में स्थित विभाग के सम्बंधित अधिकारी से मिले तो सम्बंधित अधिकारी ने सलाह दी कि नरेंद्र पाल गुप्ता की एक नई फाइल तैयार कर सैक्टर-6 पंचकूला स्थित अंत्योदय सरल केंद्र में जमा करवाएं। उन्होंने कालका सरल केंद्र के कर्मचारियों की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए बताया कि कालका सरल केंद्र के कर्मचारियों की लापरवाही के चलते पहले भी कई आवेदन और फाइलें रद्द हो चुकी हैं।

सवाल यह उठता है कि यदि कालका वासियों को अपने आवेदन व फाइलें जमा करवाने के लिए पंचकूला चक्कर लगाने पड़ें तो कालका में अंत्योदय सरल केंद्र खोलने का क्या फायदा। पारस गुप्ता का कहना है कि सरल केंद्र की तरफ से उनके पिता नरेंद्र पाल गुप्ता की फाइल सम्बंधित विभाग को नहीं भेजी गई, जिस कारण उनके पिता का पहचान पत्र नहीं बन पाया है। पारस गुप्ता का कहना है कि अंत्योदय सरल केंद्र कालका के कर्मचारियों की लापरवाही का खामियाजा आम जनता को भुगतना पड़ रहा है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।