कांगड़ा :जवाली के हरनोटा गांव में तेजधार हथियार से महिला की हत्या
November 14th, 2019 | Post by :- | 279 Views

तेजधार हथियार से महिला का मर्डर

 

काँगडा (मुुकेश सरमाल)

 

पुलिस थाना जवाली के तहत पंचायत हरनोटा में दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। महिला स्नेहलता (45) की तेजधार हथियार से हत्या हुई है। पुलिस से प्राप्त जानकारी अनुसार रणजीत सिंह (48) पुत्र जैसी राम व उसके भाई मलकियत सिंह को पुलिस थाना में ले गई है। पति रणजीत सिंह पर अपनी पत्नी की हत्या करने का आरोप है, वहीं रणजीत सिंह इस हत्या का आरोप अपने भाई मलकियत सिंह पर लगा रहा है। स्नेहलता का देर रात तेजधार हथियार से कत्ल हुआ है। बताया जा रहा है कि मृतक स्नेहलता की दो बेटियां व एक बेटा है। बेटा भर्ती को गया हुआ है व इसी माह 9 नवंबर को बड़ी बेटी की शादी हुई थी। छोटी बेटी प्रीति फारिया में शादी का लहंगा वापिस करने गई थी व रात को चलवाडा में मासी के घर ठहरी थी। बड़ी बेटी ने शादी के बाद पहली बार आज अपने मायके हारफेरा आना था। मृतक स्नेहलता आंगनबाडी मे हैल्पर के पद पर तैनात थी जबकि पति रणजीत सिंह मेहनत-मजदूरी का काम करता था। पत्नी की मौत के बाद रणजीत सिंह शराब के नशे में चूर होकर पंचायत प्रधान जगदीश चंद के पास गया व कहने लगा कि उसकी पत्नी को मेरे भाई ने मार दिया है। इसकी सूचना जवाली पुलिस को दी गई।

डी एस पी ओंकार सिंह ठाकुर

 

डीएसपी जवाली ओंकार सिंह राणा टीम के साथ घटनास्थल पर गए तथा शव को कब्जे में ले लिया। उन्होंने कहा कि पुलिस ने केस दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है तथा शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। उन्होंने कहा कि फोरेंसिक टीम को भी मौका पर बुलाया गया है। जांच के बाद ही पता चलेगा कि दोनों में से हत्या किसने की है। इसके उपरांत ही गिरफ्तारी की जाएगी।

 

 

मृतिका की बेटी प्रीति

 

फिलहाल मृतिका की बेटी प्रीति ने आरोप लगाया है कि उनका पिता अक्सर ही मां के साथ लड़ाई-झगड़ा करता था व मारपीट भी करता था। शादी से एक दिन पहले भी उसके पिता ने मां पर दराट के साथ वार किया था। उसने कहा कि मैं अपनी बड़ी बहन की शादी का किराया पर लिया गया लहंगा वापिस करने फारियाँ में गई थी और रात को मासी के पास ठहर गई। उसने रोते-रोते इसके लिए अपने पिता को ही दोषी बताया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।