सबरीमाला मंदिर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। मंदिर परिसर के आसपास 10 हजार से ज्यादा पुलिस जवानों की तैनाती
November 14th, 2019 | Post by :- | 82 Views

सुप्रीम कोर्ट पर आज पूरे देश की निगाहें टिकी हुई हैं। सुप्रीम कोर्ट के फैसले और मंडलम मकर विलक्कू उत्सव से पहले सबरीमाला मंदिर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। मंदिर परिसर के आसपास 10 हजार से ज्यादा पुलिस जवानों की तैनाती की जा रही है। इसके साथ ही 16 नवंबर से वहां पर मंडलम मकर विलक्कू उत्सव शुरू हो रहा है, इस उत्सव को देखते हुए सुरक्षा पर लगातार नजर रखी जा रही है। इसके साथ ही राफेल खरीद की जांच के लिए दायर रिव्यू पिटिशन पर सुप्रीम कोर्ट फैसला देगा।

सबरीमाला मंदिर की सुरक्षा बढ़ाई गई (फाइल-IANS)

दो महीने तक चलने वाले इस वार्षिक तीर्थयात्रा के लिए पांच स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था की गई है। डीजीपी लोकनाथ बेहरा ने कहा कि इस साल तीर्थयात्रा के दौरान  सबरीमाला के आसपास कड़ी सुरक्षा रखी जाएग और 10017 पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है।

केरल पुलिस ने सबरीमाला मंदिर के पास इस उत्सव के लिए 10,017 पुलिसकर्मियों को तैनात किया है। पांच चरणों में होने वाली यह तैनाती 15 नवंबर से शुरू की जाएगी।

केरल पुलिस के एडीजीपी एस दर्वेश साहेब को इस सुरक्षा को लेकर मुख्य समन्वयक बनाया गया है। मंदिर 16 नवंबर को मंडला पूजा त्योहार के लिए खुलेगा।

सुरक्षा को लेकर की जा रही तैनाती में 24 पुलिस अधीक्षक (एसपी) और सहायक पुलिस अधीक्षक (एएसपी) रैंक के अधिकारी शामिल होंगे। 112 डिप्टी सुपरिटेंडेंट (DySP), 264 सर्किल इंस्पेक्टर (CI) और 1185 सब इंस्पेक्टर/ सहायक सब इंस्पेक्टर रैंक के अधिकारी सुरक्षा की तैनाती में रहेंगे।

सबरीमाला मंदिर की सुरक्षा में 8402 सिविल पुलिस अफसरों में 307 महिला अफसर भी शामिल होंगी। सीआई, एसआई रैंक की 30 अतिरिक्त महिला पुलिस अफसरों को इस त्योहारी सीजन में लगाया जाएगा।

पहले चरण में 15 नवंबर से 30 नवंबर के बीच 2551 पुलिसकर्मियों को सन्नीधानम, पांबा, निलाक्कल और इरुमेली में तैनात किया जाएगा। इसे 2 एसपी रैंक के अधिकारी भी होंगे।

दूसरे चरण में 30 नवंबर से 14 दिसंबर के बीच 2539 अधिकारियों को तैनात किया जाएगा। जबकि तीसरे और चौथे चरण में क्रमशः 2992 और 3077 अफसरों की ड्यूटी सुरक्षा के लिए की जाएगी। वहीं राज्य की स्पेशल ब्रांच से 1560 अतिरिक्त पुलिस अधिकारियों को भी सन्नीधानम, पांबा और निलाक्कल में लगाया जाएगा। हालांकि विभाग ने सन्नीधानम में महिलाओं की नियुक्ति को लेकर कोई फैसला नहीं किया गया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।