गुरु तेग बहादुर पब्लिक स्कूल और गुरु तेग बहादुर स्कूल ऑफ एजुकेशन में 550 प्रकाश पर्व को समर्पित सहज पाठ का भोग डाला गया
November 12th, 2019 | Post by :- | 167 Views

गुरु तेग बहादुर पब्लिक स्कूल और गुरु तेग बहादुर स्कूल ऑफ एजुकेशन में गुरु नानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया ।
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
आज श्री गुरु तेग बहादुर पब्लिक स्कूल औऱ श्री गुरु तेग बहादुर कालज ऑफ एजुकेशन खानकोट में गुरु नानक देव जी का 550 वां प्रकाश पर्व स्कूल प्रिंसीपल परमिंदर कौर और कालज प्रिंसिपल श्रीमति पूनम चोपड़ा की योग्य अध्यक्षता में प्यार ,सत्कार और श्रद्धा भावना के साथ मनाया गया ।गुरु साहिब को नतमस्तक होते हुए गुरुद्वारा साहिब में श्रध्दापूर्वक एक माह पहले 12 अक्तूबर को सहज पाठ आरंभ किया गया ,जिसके पस्चात सुबह की सभा मे हर रोज़ गुरु साहिब के जीवन से सबंधित प्रेरणा स्रोत साखियों को सांझा किया गया ।स्कूल के 9वीं औऱ 12 वीं कक्षा के छात्रों का भाषण मुकाबला कराया गया इसके साथ ही सभी छात्रों की भागीदारी लाज़मी बनाते हुए उनका वर्ग वितरण करते हुए गुरु जी के जीवन के साथ सवाल जवाब प्रतियोगिता कराई गई ।इसके इलावा जगत गुरु श्री गुरु नानक देव जी के रब्बी नूर रूपी शख्सियत और जीवन पर इंटर हाउस मुकाबले तहत शानदार प्रदर्शनी पेश की गई रविवार को स्कूल औऱ कालज के प्रिंसिपल समूह स्टाफ औऱ छात्रों द्वारा नज़दीक इलाकों में प्रभात फेरी दौरान गुरु साहिब के शब्द गायन किये गए ।श्री गुरु नानक देव जी के आगमन पर्व को समर्पित सभी गतिविधियों की समाप्ति सहज पाठ के भोग के उपरांत शब्द गायन द्वारा की गई ।इस समागम में स्कूल की समूह टीम प्रबंधक कमेटी औऱ स्कूल प्रिंसिपल परमिंदर कौर ने बच्चों के अभिभावकों का धन्यवाद करते हुए बधाई दी औऱ गुरु जी द्वारा दिखाए रस्ते पर चलने के लिए प्रेरित किया ।इस अवसर पर गुरु का लंगर अटूट चला ।इस मौके पर एम डी डॉक्टर गुरबिलास पी सिंह पन्नू ,मेम्बर बलजीत सिंह शुकरचकिया ,दीप सोनू ,लखविंदर सिंह ,रणबीर सिंह राणा ,औऱ स्कूल की वाइस प्रिंसिपल श्रीमति गुरकंवलजीत कौर हाजिर थी ।इस खुशी के मौके पर स्कूल के फाइनेंस एंड प्लानिंग मेम्बर बलजीत सिंह शुकरचकिया ने मैनेजिंग कमेटी द्वारा स्कूल औऱ कालज टीचिंग और नान टीचिंग स्टाफ को विशेष बोनस देने की घोषणा की गई ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।