कब बुलबल बच्चों को जीवन में आगे बढऩे के लिए सबसे अच्छा प्लेटफार्म : भारद्वाज, उप-जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी ने किया जिला स्तरीय कब बुलबल उत्सव का शुभारंभ
November 11th, 2019 | Post by :- | 175 Views

जींद, लोकहित एक्सप्रेस, (अनिल सैनी) । उप जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी सुभाष भारद्वाज ने कहा कि कब बुलबुल के माध्यम से छोटे बच्चे खेल-खेल में गुणवता पूर्वक शिक्षा ग्रहण करते हैं। इस तरह की गतिविधियों से बच्चे कठिन से कठिन पाठयक्रम को भी आसानी से याद कर लेते हैं। इससे बच्चों को रटने की आदत से निजात मिलती है। इसमें बच्चों में अनुशासन की भावना पनपती है। वहीं बच्चों को राज्य व राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाने का अवसर मिलता है। उप जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी सुभाष भारद्वाज सोमवार को शहर के जाइट स्कूल में आयोजित जिला स्तरीय कब बुलबल उत्सव में विद्यार्थियों को सम्बोधित कर रहे थे।
सुभाष भारद्वाज ने कहा कि कब बुलबल बच्चों को जीवन में आगे बढऩे के लिए एक अच्छा प्लेटफार्म मिलता है। यहां से बच्चे खेल-खेल में गुणवता पूर्वक शिक्षा के साथ-साथ नैतिक गुण भी अर्जित करते हैं। विद्यार्थियों के लिए पढ़ाई के साथ-साथ इस तरह की गतिविधियां भी बेहद जरूरी हैं। इस तरह की गतिविधियों से बच्चों को बहुत कुछ सीखने को मिलता है साथ ही जीवन में आने वाली चुनौतियों से निपटने के लिए भी बच्चे मानसिक व शारीरिक रूप से तैयार होते हैं। जिला संगठन आयुक्त राजेश वशिष्ठ ने कहा कि इस तीन दिवसीय जिला स्तरीय कब बुलबल उत्सव के दौरान 350 बच्चे अपने घर से दूर रहकर शिक्षा तो ग्रहण करेंगे ही साथ ही यहां से काफी नई चीजें सीख कर निकलेंगे। इस तीन दिवसीय उत्सव के दौरान बच्चे स्वयं अपनी दिनचर्या का पालन कर आत्मनिर्भर बनेंगे। इस उत्सव के दौरान बच्चों को बड़ा सौहार्द पूर्ण माहौल मिलेगा तथा यहां पर वह बिना किसी मानसिक दबाव के अपने बचपन का आनंद ले सकेंगे। जाइट के निदेशक नरेंद्र नाथ शर्मा ने कहा कि उनके संस्थान द्वारा कब बुलबुल उत्सव में आने वाले बच्चों को हर प्रकार की सुविधा मुहैया करवाई गई है ताकि बच्चे इन तीन दिनों को पूरी तरह से यादगार बना सकें। इस अवसर पर कार्यक्रम में संतरो, विक्रम मलिक, नरेंद्र, भरपूर, महावीर, पुष्पा, गौरव, मोहन, प्रमोद, ऊषा भी विशेष तौर पर मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।