नशे के खिलाफ महिलाओं का संकल्प, अवैध कारोबार रोकने के लिए पुलिस को करेगी सहयोग।
November 10th, 2019 | Post by :- | 157 Views

मंडी,करसोग(मोहन शर्मा):- समाज में फैल रही नशे की बुराई को समाप्त करने के लिए अब ग्रामीण महिलाएं भी अपनी भूमिका निभाते नजर आएगी। करसोग की ग्राम पंचायत भंडारणु के शिवा महिला मंडल देहरी ने नशे को जड़ से समाप्त करने का संकल्प लिया है। इसके लिए ये महिलाएं अपने क्षेत्र में नशे का अवैध कारोबार करने वाले लोगों के खिलाफ पुलिस को सहयोग करेगी। नशे के कारोबार से जुड़े लोगों को सीधी शिकायत पुलिस से की जाएगी। ताकि देश के भविष्य युवा पीढ़ी को नशे जैसी बुराई से बचाया जा सके। रविवार को भंडारणु में आयोजित हुई शिवा महिला मंडल देहरी की बैठक में लिया गया। यही नहीं ये महिलाएं अपनी ग्राम पंचायत के तहत पड़ने वाले शैक्षणिक शिक्षण संस्थान में भी छात्रों को नशे के खिलाफ जागरूक करेंगी। ग्रामीण क्षेत्रों में ये पहली बार है कि महिलाएं नशे के अवैध कारोबार के खिलाफ खुलकर सामने आई हैं। शिवा महिला मंडल देहरी की प्रधान वनिता शर्मा का कहना है कि सरकार नशे के खिलाफ लगातार अपने कदम उठा रही है। ऐसे में आम जनता का भी कर्तव्य बनता है कि नशे के खिलाफ पुलिस का सहयोग करे। इस मौके पर लता देवी, रक्षा, विद्या, सुनीता, रेखा, चेतना, आशा व कुसुम लता भी उपस्थित थीं।

करियाना की दुकानों में बिक रही शराब:
करसोग में नशे का अवैध कारोबार लगातार बढ़ रहा है। स्थिति ये है कि यहां करियाना की दुकानों में भी खुलेआम अवैध शराब बेची जा रही है। ऐसे में स्थानीय लोगों को बच्चों को करियाना की दुकान में अकेले भेजना भी मुश्किल हो गया है। हालांकि शिकायत के आधार पर पुलिस ने करियाना की कुछ दुकानों में अवैध शराब की पकड़ी है, लेकिन जागरूकता के अभाव में अधिकतर लोग पुलिस को सहयोग करने को तैयार नहीं है। इसी का फायदा उठाकर नशे का कारोबार करने वालों के हौसले बुलंद है। ऐसे में आसानी से नशा मिलने के कारण युवा पीढ़ी इसके गरिफ़्त में आ रही है। इसको देखते हुए शिवा महिला मंडल देहरी ने नशे के अवैध कारोबार का खिलाफ आवाज उठाने का निर्णय लिया है।

पर्यावरण बचाने के लिए कर रही काम:
शिवा देहरी महिला मंडल पर्यावरण बचाने के लिए भी कार्य कर रहा है। महिलाओं ने करवाचौथ के दिन भी पर्यावरण को बचाने के लिए धरती मां का श्रृंगार किया। महिलाओं ने देहरी के सिद्ध पीठ शिव मंदिर परिसर में खाली पड़ी जगह पर आम, अनार सहित कई किस्मों के फलदार पौधे रोपे हैं। इन पौधों की देखरेख भी ये महिलाएं खुद कर रही है। ये महिलाएं सप्ताह में दो बार अपने लगाए गए पौधों को पानी देती है। ताकि धरती पर हरियाली को बचाया जा सके।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।