सरकारी जमीन पर कब्जाधारियों से मुक्ति दिलाए मुख्यमंत्री मनोहरलाल : नफे सिंह राठी
November 9th, 2019 | Post by :- | 274 Views
बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ (गौरव शर्मा)
बहादुरगढ में सरकारी जमीनों पर अवैध कब्जे रुकने का नाम नहीं ले रहे है। जिसमें रजिस्ट्री किसी खसरा नंबरान की होती है और कब्जा सरकारी जमीनों पर किया जाता है। यह कहना है पूर्व विधायक व इंडियन नेशनल लोकदल के प्रदेश महासचिव नफे सिंह राठी का। आज पत्रकारवार्ता के दौरान पूर्व विधायक नफे सिंह राठी ने कहा कि यह घोटाला हमने इसी वर्ष उजागर किया था। जिसमें बादली रोड पर अंबेडकर स्टेडियम के सामने 200 गज जमीन पर अवैध कब्जा भाजपा के पूर्व विधायक के रिश्तेदारों द्वारा किया जा रहा है। इस घोटाले में रजिस्ट्री दूसरे खसरा नंबरान की है और कब्जा हुडा विभाग की सरकारी जमीन पर किया जा रहा है। अब एक बार दोबारा से इस जमीन पर अवैध कब्जा किया जा रहा है और अवैध रुप से प्लॉट पर कमरे बना दिए गए है।  इस प्लॉट की कीमत भी लगभग सवा करोड रुपये है। उन्होंने कहा कि इस अवैध कब्जे को तुरंत रोका जाना चाहिए।
राठी ने कहा कि इस संबंंध में हमने पहले भी माननीय मुख्यमंत्री समेत उच्च अधिकारियों को दिनांक 25.6.19 के तहत एक शिकायत भेजी थी लेकिन कोई कार्यवाही अमल मेें नहीं लाई गई। अब दोबारा से माननीय मुख्यमंत्री समेत अन्य उच्चाधिकारियों को पत्र लिखकर इस घोटाले में जांच के बाद कार्यवाही की मांग की है। उन्होंने कहा कि विभाग के कुछ अधिकारियों से मिलकर भूमाफिओं ने विधानसभा चुनाव 2019 के दौरान दिन रात अवैध निर्माण करके हुडा विभाग की जमीन पर कब्जा कर लिया। अवैध कब्जाधारियों ने रजिस्ट्री खसरा नंबर 5213-676-2 की कराई है और कब्जा हरियाणा सरकार हुडा विभाग की जमीन खसरा नंबर 674-675 पर किया गया है। जिस जमीन पर कब्जा किया गया है वह जमीन बहादुरगढ से बादली रोड के नजदीक अंबेडकर स्टेडियम के नजदीक पडती है। यहां दो प्लाटों पर अवैध निर्माण चल रहा है उसे तुरंत गिराया जाना चाहिए। इस जमीन का रकबा बहादुरगढ का है और भाजपा के पूर्व विधायक के रिश्तेदारों ने यह कब्जा किया जा रहा है।
राठी ने कहा कि इस घोटाले की तुरंत जांच करवाकर अवैध निर्माण को गिराकर जमीन को कब्जामुक्त कराया जाना चाहिए। साथ ही दोषियों के खिलाफ कानूनी कारवाई की जानी चाहिए। ताकि सरकार की संपत्ति को बचाया जा सके। राठी ने वर्तमान कांग्रेस विधायक राजेंद्र सिंह जून से भी इस मामले को संज्ञान में लेकर जांच की मांग की है। साथ ही नगर परिषद अध्यक्ष से कहा है कि इस जगह का नक्शा अगर पास हुआ है तो इस तुरंत प्रभाव से रद्द किया जाए। इस मौके पर पार्षद शशि कुमार, पार्षद संदीप कुमार, मनदीप राणा, रतन सिंह मोर, अरुण गोयल, अमरदीप भूरा, जितेंद्र राठी, मास्टर सुखबीर सरोहा व सूरजमल दलाल, मास्टर धर्मपाल खत्री व जगबीर सुहाग आदि मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।