जिला में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए ग्राम स्तर पर बनेंगी पीस कमेटी : यशपाल जिला उपायुक्त
November 8th, 2019 | Post by :- | 98 Views

उपायुक्त यशपाल ने अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट से आने वाले निर्णय को लेकर जिला में कानून व्यवस्था बनाए रखने को लेकर अधिकारियों को निर्देश | 

हसनपुर पलवल/मुकेश वशिष्ट  :- उपायुक्त यशपाल ने कहा कि अयोध्या में राम जन्मभूमि को लेकर माननीय उच्चतम न्यायलय से शीघ्र ही निर्णय आने वाला है। हरियाणा सरकार ने इस संदर्भ में आदेश जारी किए है कि इस दौरान सभी अधिकारी बिना अनुमति के अपना मुख्यालय न छोड़े। साथ ही जिला में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए विकास एवं पंचायत व राजस्व विभाग के कर्मचारी पुलिस विभाग के साथ समन्वय स्थापित करते हुए ग्राम स्तर पर प्रभावशाली लोगों की शांति (पीस) कमेटी का गठन करें। उन्होंने यह बात शुक्रवार को लघु सचिवलाय स्थित कांफ्रेंस हॉल में अधिकारियों की बैठक को संबोधित करते हुए कही।

उपायुक्त यशपाल ने कहा कि जिला के सभी तीनों उपमंडल हथीन, होडल व पलवल के एसडीएम अपने स्तर पर भी संवेदनशील स्थानों पर स्वयं भी लोगों की मीटिंग लेते हुए पीस कमेटी के सदस्यों को इलाके में शांति व सदभाव बनाए रखने के लिए प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि इस दौरान जिला प्रशासन के सभी विभागों के अधिकारी व कर्मचारी भी अपने-अपने स्तर पर समाज में सौहार्द बनाए रखने में योगदान करें साथ ही यह भी प्रयास करें कि सोशल मीडिया के माध्यम भी उच्चतम न्यायालय के निर्णय पर ऐसी टिप्पणी ना की जाए जिससे सामाजिक सौहार्द प्रभावित हो।

उन्होंने बैठक के दौरान पुलिस विभाग के अधिकारियों को भी निर्देश देते हुए कहा कि सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिसकर्मी अलर्ट पर रहें तथा संवेदनशील स्थानों पर अतिरिक्त निगरानी रखें। उन्होंने कहा कि उच्चतम न्यायालय का जो भी निर्णय आए उसका सभी को सम्मान करना चाहिए। सामाजिक सौहार्द बनाए रखने के लिए हम सभी को अपना योगदान करना चाहिए। उन्होंने जिलावासियों से भी अपील करते हुए कहा कि जिला में आपसी भाईचारा व सामाजिक सौहार्द बनाए रखें तथा शांति भंग करने का प्रयास करने वालों की सूचना तुरंत प्रशासन को दें।
इस अवसर पर एसडीएम होडल वत्सल वशिष्ठ, एसडीएम पलवल जितेंद्र कुमार, सीटीएम आशिमा सांगवान, डीएसपी सुनील कादियान सहित ला एंड आर्डर से जुड़े विभिन्न अधिकारी भी उपस्थित रहें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।