सरकार की योजनाओं को अमलीजामा पहनाने में नहीं छोड़ी जा रही है कोई कोर कसर:-डीसी अम्बाला।
November 7th, 2019 | Post by :- | 315 Views


अम्बाला, अशोक शर्मा

मुख्यमंत्री मनोहर लाल द्वारा भावांतर भरपाई योजना के तहत किसानों के लिए गाजर, मटर व अमरूद को भी इस योजना में शामिल करने का स्वागत किया है। इस योजना में शामिल होने से किसानों को काफी फायदा मिलेगा तथा वह अपने इन उत्पादों को मंडियों में भी उचित दाम पर बेच सकेंगे। निर्धारित मूल्य से कम मूल्य पर बिकने के चलते सम्बन्धित किसानों को भावांतर भरपाई योजना के तहत सरकार द्वारा भाव दिलाया जायेगा। इससे पहले भावांतर भरपाई स्कीम में टमाटर, फूल गोभी, आलू और प्याज इन चार फसलों पर किसानो को मुख्यतौर पर लाभ दिया जा रहा है तथा आलू व टमाटर का मूल्य 400 रुपये प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 500 रुपये प्रति किवंटल किया गया है। इसी प्रकार प्याज व फूलगोभी का संरक्षित मूल्य 500 रुपये प्रति किवंटल से बढ़ाकर 600 रुपये प्रति क्विंटल किया गया है।
किसानों के लिए क्रियान्वित की गई भावांतर भरपाई योजना काफी लाभदायक सिद्ध हो रही है। प्रदेश सरकार निरंतर किसानों के हित में एतिहासिक फैसले लेकर जहां उनकी फसलों के उचित दाम दिलवाने के लिए प्रतिबद्ध है वहीं किसानों को मंडियो में भी बेहतर सुविधा उपलब्ध करवाने का काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि भावांतर भरपाई योजना के तहत बागवानी उत्पादकों के लिये मंडी में उनके उत्पादन के कम दाम मिलने पर सरकार द्वारा भरपाई करने की एक अनूठी योजना चलाई हुई है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य मंडी में सब्जी व फल की कम कीमत के दौरान किसानों को निर्धारित संरक्षित मूल्य द्वारा जोखिम को कम करना तथा कृषि में विविधिकरण के लिये किसानो को प्रोत्साहित करना है। इसके अलावा मुख्यमंत्री द्वारा विधानसभा सत्र के दौरान किसानों के हितों के लिए एतिहासिक घोषणाएं की गई है वहीं सरकार ने किसानों को बेहतर मार्किट उपलब्ध करवाने के लिए तीन विशेष मंडियां स्थापित करने की घोषणा की है। इस कड़ी में पिंजौर में आधुनिक सेब मंडी, गुरूग्राम में फूलों व सोनीपत में मसाला मंडी स्थापित की जायेगी। इसके स्थापित होने से किसान अपना उत्पाद आसानी से बेच सकेंगे। किसानों ने सरकार की इस महत्वकांक्षी योजना के विस्तार को लेकर सरकार की प्रशंसा की है। किसानों के हितों के लिए क्रियान्वित की गई प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से किसानों को काफी राहत भी मिली है।
प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत प्रदेश के लगभग 14 लाख किसानों को सालाना 6 हजार रूपये की आर्थिक मदद मिल रही है। किसान शमशेर सिंह, बलवान, रोहताश ने कहा कि भावांतर भरपाई योजना के तहत गाजर, मटर और अमरूद की फसल को शामिल कर किसानों को सरकार ने एक ओर बेहतर तोहफा देने का काम किया है।
इस संदर्भ में जब उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा से बात की गई तो उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा जनहित के लिए शुरू की गई योजना के तहत किसानों को लाभान्वित करना और स्कीमों को सुचारू रूप से क्रियान्वित करना प्रशासनिक कार्य है। इस दिशा में सम्बन्धित अधिकारियों को पहले ही निर्देश दिये जा चुके हैं कि वे स्कीमों को लागू करने में मेहनत और लग्न के साथ कार्य करें ताकि सम्बन्धित किसानों को स्कीमों का भरपूर फायदा मिल सके। उन्होंने बताया कि आलू व फूलगोभी फसल के लिये पंजीकरण की अतिम तिथि 31 अक्तूबर 2019 थी तथा प्याज व टमाटर के लिये किसान 15 दिसम्बर से 15 फरवरी तक पंजीकरण करवा सकते हैं।
जिलाधीश एवं उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा ने कहा कि माननीय उच्च न्यायालय पंजाब एवं हरियाणा द्वारा जिला अम्बाला में लिपिक के पद की परीक्षा 10 नवम्बर जिले के विभिन्न परीक्षा केन्द्रों मे आयोजित की जायेगी। इस परीक्षा के सफलपूर्वक आयोजन को लेकर धारा 144 के आदेश जारी किए गये हैं। जारी आदेशों में कहा गया है कि परीक्षा केन्द्रों के नजदीक न तो कोई जनसभा करेंगे और उक्त परीक्षा के दौरान किसी भी प्रकार के हथियारों जैसे अग्नि अस्त्र, तलवार (सिक्ख समुदाय के प्रतीक कृपाण को छोडकऱ), बरछा, भाला, लाठी, चाकू व अन्य किस्म के हथियार इत्यादि को परीक्षा केन्द्रों के नजदीक 200 मीटर की परिधी तक रखने व ले जाने पर प्रतिबंध रहेगा। यह आदेश पुलिस कर्मचारियों व अन्य सरकारी कर्मचारी जो डयूटी पर तैनात होंगे उन पर लागू नहीं होगे। इसके अलावा सभी परीक्षा केन्द्रों की 200 मीटर की परिधि में परीक्षा के दौरान सभी फोटोस्टेट मशीने भी बंद रहेगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।