88 फीसदी अंकों वाले 600 मेधावियों को वजीफा
November 7th, 2019 | Post by :- | 840 Views

शिक्षा बोर्ड ने दसवीं-जमा दो में 88 फीसदी अंकों वाले छात्रों से ऑनलाइन मांगे आवेदन

धर्मशाला – हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड द्वारा संचालित मार्च-2019 में दसवीं व जमा दो कक्षा की परीक्षा में 88 प्रतिशत व इससे अधिक अंक प्राप्त करने वाले छह सौ मेधावी छात्रों को स्कॉलरशिप प्रदान की जाएगी। इसके लिए छात्र बोर्ड की वेबसाइट से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। स्कूल शिक्षा बोर्ड से जमा दो कक्षा के साइंस गु्रप के एक सौ तथा आर्ट्स एंड कामर्स के एक सौ तथा दसवीं कक्षा के 400 मेधावी छात्रों को बोर्ड स्कॉलरशिप प्रदान की जाएगी। हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड अध्यक्ष डा. सुरेश कुमार सोनी ने बताया कि वर्ष 2019 के लिए बोर्ड द्वारा प्रदान की जाने वाली छात्रवृत्ति हेतु ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। इस संदर्भ में छात्रवृत्ति से संबंधित उन सभी परीक्षार्थियों, जिन्होंने बोर्ड परीक्षा में 88 प्रतिशत तथा इससे अधिक अंक प्राप्त किए हैं, उन सभी पात्र परीक्षार्थियों की सूची व सहमति पत्र बोर्ड की वेबसाइट में स्टूडेंट कॉर्नर के स्कॉलरशिप लिंक पर उपलब्ध है। समस्त पात्र छात्र अपने आवेदन, सहमति और बिल प्रपत्र बोर्ड की वेबसाइट से डाउनलोड कर अपने अध्ययनरत शिक्षण संस्थानों के प्रधानाचार्यों से सत्यापित करवाकर फार्म को स्कैन करके बोर्ड की वेबसाइट में स्कॉलरशिप लिंक पर अपलोड करने के उपरांत उसकी हार्ड कापी पंजीकृत डाक द्वारा सचिव स्कूल शिक्षा बोर्ड धर्मशाला के नाम प्रेषित करनी होगी, जिससे कोई भी पात्र परीक्षार्थी बोर्ड छात्रवृत्ति योजना से वंचित न रहे। ऑनलाइन आवेदन करने की तिथि छह नवंबर से 31 दिसंबर तक निर्धारित की गई है। उसके उपरांत प्रस्तुत किए गए दावों पर विचार नहीं किया जाएगा। संबंधित छात्रों के प्रधानाचार्यों को यह भी सुनिश्चित करना होगा कि नियमानुसार एससी, एसटी व ओबीसी कक्षाओं को छोड़ कर सामान्य वर्ग के विद्यार्थियों को केवल एक ही विभाग व संस्था से छात्रवृत्ति देय होगी। संबंधित प्रधानाचार्य छात्रों के सहमति प्रपत्र, बिल प्रपत्र सत्यापित करते समय सभी तथ्य जांच लें, ताकि छात्रवृत्ति एक ही विभाग/संस्था से प्रदान की जा सके।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।