मैं जनता के प्रति जवाबदेह हूं, विकास करवाना मेरा नैतिक कर्तव्य : शीला राठी
November 6th, 2019 | Post by :- | 348 Views
बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ (गौरव शर्मा)
हमने जिम्मेदारी दी तो जताने लगे विरोध, आरोप-प्रत्यारोप में ही उलझाना सिर्फ विरोधियों का काम : शीला राठी
बहादुरगढ़: नगर परिषद की चेयरपर्सन शीला राठी ने कहा कि जनता हमें पार्षद काम करने के लिए चुनती है न कि विरोध करने के लिए। मगर कुछ पार्षदों का काम सिर्फ नगर परिषद के हर काम में विरोध करना ही रह गया है। हमने पार्षद नीना राठी व सीमा राठी को अनुबंधित सफाई कर्मचारियों की ड्रेस खरीद कमेटी में शामिल इसीलिए किया था कि ये बार-बार आरोप लगाती थी कि हमें नगर परिषद के किसी भी काम में शामिल नहीं किया जाता। ना ही हमें बताया जाता है। मगर पहली बार ही दी गई जिम्मेदारी से इन दोनों पार्षदों ने न केवल पल्ला झाड़ लिया बल्कि विरोध स्वरूप अनाप-शनाप बयानबाजी भी की। ऐसे पार्षदों का विकास कार्याें से कोई लेना-देना नहीं है। अगर उन्हें विरोध ही करना था तो पार्षद क्यों बने थे।
शीला राठी ने बुधवार को अपने कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि हर काम में भ्रष्टाचार के आरोप लगाने वाले पार्षदों को जब हमने सफाई कर्मचारियों के लिए ड्रेस खरीद की जिम्मेदारी लगाई तो वे उसे निभाना की बजाय विरोध करने लगे। अगर नप के अधिकारी अपने आप ही ड्रेस को खरीद लेते तो यहीं पार्षद कल इसमें भ्रष्टाचार के आरोप लगाते। इसी के चलते हमनें उनकी ड्रेस खरीद करने की जिम्मेदारी लगाई थी। अब खुद को विरोधी बताकर ये पार्षद अपनी जिम्मेदारियों से पल्ला झाड़ रही हैं। हम भी चाहते हैं कि वे विपक्ष की भूमिका निभाएं लेकिन एक पार्षद होने के नाते जो जिम्मेदारी नगर परिषद की ओर से लगाई जाती है उसे भी पूरी करें। इन पार्षदाें की वजह से ही सफाई कर्मचारियों को वर्दी मिलने में अब देर होगी। मगर मैं किसी दूसरे पार्षदों की ड्यूटी लगाकर उन्हें जल्द से जल्द वर्दी दिलाने का काम करूंगी। शीला राठी ने बताया कि इन पार्षदों का मकसद तो शहर के विकास में सहयोग देने की बजाय सिर्फ भ्रष्टाचार-भ्रष्टाचार चिल्लाना रह गया है। कोई भी आरोप लगाकर उसे साबित करना होता है। मगर साबित तो तब होगा जब कहीं भ्रष्टाचार होगा। जो लोग झूठे आरोप लगा रहे हैं, उन्हें न तो जनता माफ करेगी और न ही कभी दोबारा मौका देगी। ऐसे लोग सिर्फ और सिर्फ कुर्सी के लालची हैं और कुर्सी पाकर जनता के पैसे से अपना घर भरना चाहते हैं। इनको जनता के काम से कोई लेना देना नही है। ऐसी विरोधी पार्षदों से विकास के काम में सहयोग बेमानी ही है। ऐसे लोगों की गलत बातों से दूर रहकर जब नगर परिषद द्वारा विकास कार्य करवाए जाते हैं तो इन लोगों को यह हजम नही होता और झूठे आरोपों से जनता को गुमराह करने का प्रयास करते हैं। मगर अब जनता इनके बहकावे में आने वाली नहीं है। मैं जनता के प्रति जवाबदेह हूं। मुझे इन विरोधी पार्षदों से कोई लेना-देना नहीं है। ये चाहे कुछ भी आरोप लगाती रहें, चेयरपर्सन होने के नाते मेरा काम  शहर का विकास करना है, जो मेरे कार्यकाल में निरंतर जारी रहेगा। इस मौके पर नप के वाइस चेयरमैन विनोद कुमार, पार्षद युवराज छिल्लर, राजेश खत्री, धर्मेंद्र वत्स, संदीप राठी, कृष्ण गुलिया, मीर सिंह, देवेंद्र आदि मौजूद थे।
विरोधी पार्षदों का काम सिर्फ झूठे आरोप लगाना:युवराज
पार्षद युवराज छिल्लर ने भी इस मौके पर कहा कि जो लोग विरोध कर रहे हैं, उनको सपने में भी चेयरमैनी दिख रही है। जब पूर्व सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने शीला राठी का नाम चेयरमैनी के लिए फाइनल किया था तो विरोध जताने वाली एक महिला पार्षद की आंखों में सबसे पहले आंसू आए थे। विधायक राजेंद्र जून को टिकट मिली तब भी ये लोग विरोध जताने में सबसे आगे थे। ये सच्चे कांग्रेसी नहीं बल्कि विरोधी पक्ष के हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।