नगर परिषद में विकास कार्यों के नाम पर खूब महाघोटाले हुए : नीना सतपाल राठी
November 4th, 2019 | Post by :- | 241 Views
बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ (गौरव शर्मा)
नगर परिषद की ओर से अनुबंधित सफाई कर्मचारियोंं के लिए गर्म-ठंडी वर्दी व दो-दो जोड़ी जूत्ते खरीदने के लिए गठित की गई नई सब कमेटी को लेकर सवाल खड़े हो गए हैं। इस कमेटी में शहर के वार्ड 30 से पार्षद डा. नीना राठी, वार्ड-13 से सीमा राठी व वार्ड-15 से मोनिका राठी का नाम शामिल होने पर कड़ा विरोध हो गया। उक्त पार्षदों में से डा. नीना राठी व सीमा राठी ने सोमवार को पत्रकार वार्ता के दौरान कहा कि उन्हें किस एजेंडे से व किस मीटिंग में इस कमेटी में शामिल किया गया है उसके बारे में कोई जानकारी तक नहीं दी गई। बिना उनके संज्ञान में लाए मनमाने तरीके से नगर परिषद की ओर से किए जा रहे भ्रष्टाचार में उनका नाम बेवजह शामिल करने की मंशा की गई है। उन्हें अपने नामों को लेकर कड़ा ऐतराज है कि वे किसी भी भ्रष्टाचार का हिस्सा नहीं होना चाहते। क्योंकि वे शुरू से लेकर अब तक नगर परिषद की ओर से किए जा रहे भ्रष्टाचार को लेकर लगातार आवाज उठाते रहे हैं और भविष्य में भी उठाते रहेंगे।
दिल्ली-रोहतक रोड स्थित अपने कार्यालय पर पत्रकारों से बातचीत में डा. नीना राठी ने उन्हें यह बताया जाए कि चुनाव के बाद ये उक्त तीनों नाम कैसे इसमें शामिल किए गए हैं। उन्होंने कहा कि अपने भ्रष्टाचार के कारनामों को छुपाने के लिए व उनमें उक्त तीनों का नाम भी शामिल करने की मंशा को लेकर यह चाल चली जा रही है लेकिन वे उनके मनसूबों को सफल नहीं होने देंगे। पार्षद डा. नीना राठी व सीमा राठी ने संयुक्त रूप से कहा कि उनका इस कमेटी में नाम शामिल होने पर कड़ा ऐतराज है। अब से पहले जो कमेटियां गठित की गई थी उनमें भी उनका कोई रोल नहीं रहा। ऐसे में अब नगर परिषद में हो रहे भ्रष्टाचार को दबाने के लिए इस तरह का खेल खेला जा रहा है ताकि भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने वाले कुछ नहीं बोल पाए। लेकिन वे नगर परिषद में हुए भ्रष्टाचार के खिलाफ शुरू से लेकर अब तक लगातार विरोध करते आ रहे हैं और भविष्य में भी करते भी रहेंगे। नप पूरी तरह से भ्रष्टाचार में लिप्त हैं। डा. नीना राठी व सीमा राठी ने कहा कि जब भाजपा के विधायक नरेश कौशिक थे तो उनके साथ मिलकर नगर परिषद चेयरपर्सन ने भ्रष्टाचार को खूब बढ़ावा दिया। उन्होंने कहा कि जनता के सामने उनके भ्रष्टाचार को उजागर करने का काम किया जिसका आधा जवाब तो जनता ने चुनाव में दे दिया है। पार्षदों ने कहा कि जितने भी नगर परिषद में टैंडर हुए हैं या फिर जितने भी कार्य किए गए हैं उन्हें जनता के सामने सार्वजनिक किया जाना चाहिए ताकि जनता उनका अपने आप समय पर जवाब दे देगी। लोगों ने उन्हें जो वोट दी थी उनके प्रति भी वे वचनबद्ध नहीं रहे। पत्रकार वार्ता के दौरान पूर्व पार्षद वजीर राठी, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता सतपाल राठी, रोहतास मलिक, मनीष, मनोज हुुड्डा समेत कई अन्य मौजूद रहे।
कर्मचारियों के साथ भेदभाव क्यों?
पार्षद डा. नीना राठी व पार्षद सीमा राठी ने कहा कि नगर परिषद के स्थायी व अनुबंध कर्मचारियों के बीच भेदभाव क्यों बरता जा रहा है। जब स्थायी कर्मचारियों को नगद भुगतान किया जा रहा है तो अनुबंध को भी किया जाना चाहिए।
हर जगह हुए महाघोटाले
पार्षद डा. नीना राठी व सीमा राठी ने कहा कि नगर परिषद में विकास कार्यों के नाम पर खूब महाघोटाले हुए हैं। जो भी विकास कार्य किए गए हैं और उनमें भारी गोलमाल हुआ है उन सबकी उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए ताकि पूरी स्थिति से लोगों का पता चल सके। लाइटेें लगाने से लेकर साफ-सफाई व सडक़ें बनाने तक के कार्यांे में भ्रष्टाचार किया गया। पूरा शहर अंधेरे में डूबा रहता है और नगर परिषद की ओर से 19 करोड़ की लाइटें लगा दी गई है लेकिन उनकी सुध तक नहीं ली जा रही।
नहीं दर्ज होती आपत्तियां
पार्षद डा. नीना राठी व सीमा राठी ने कहा कि जब भी उन्होंने व अन्य पार्षदों ने कोई आपत्ति प्रोसिडिंग बुक में दर्ज कराई तो वह नहीं की गई। बल्कि घर बैठकर ही प्रोसिडिंग बुक तैयार करने का काम किया जाता रहा है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2017 में 11 जनवरी पहली मीटिंग हुई थी तो उसमें जितनी भी उप समिति थी उन्हें बना दिया गया था। अब उनको बिना किसी सूचना दिए, संज्ञान में लाए चुनाव के बाद ऐसा क्या हुआ कि नई समिति में उनके  नाम किस एजेंडे के तहत शामिल किए गए हैं। डा. नीना राठी ने कहा कि वे लगातार भ्रष्टाचार को लेकर आवाज उठाती आ रही हैं और जनहित को ध्यान रखते हुए लगातार उठाती भी रहूंगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस कभी भ्रष्टाचार का समर्थन नहीं करती।
-फोटो कैप्शन : पत्रकारों से बातचीत करते हुए पार्षद डा. नीना राठी व सीमा राठी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।