कैथल बाई साइकिल क्लब ने समाज सेवा के कार्य करते हुए किये चार वर्ष पुरे
November 4th, 2019 | Post by :- | 153 Views
कैथल(लोकहित विशाल चौधरी) शहर की जनता को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने के लिए चार वर्ष पूर्व कैथल जिला के तत्कालीन  उपायुक्त के एम् पांडुरंग  और  पुलिस अधीक्षक कृष्ण मुरारी ने कैथल  बाई साइकिल क्लब का गठन किया था।   कैथल  बाई साइकिल क्लब में जिला के  अनेको अधिकारियो  , कर्मचारियों  ,पत्रकारों  , व्यापारियों  और समाजसेवियों ने बड़े उत्साह से इस की सदस्यता ग्रहण की थी , आज  कैथल बाई साइकिल क्लब ने सफलतापूर्वक अपने चार साल पुरे कर लिए।   स्वास्थ्य के प्रति जागरूक को लेकर शुरू हुए इस  कैथल बाई साइकिल क्लब ने कैथल शहर में बेहद लोकप्रियता हासिल कर ली।  क्लब ने धीरे धीरे समाजसेवा के कार्य शुरू कर दिए थे, जिसके तहत क्लब ने शहर के पार्क रोड पर एक नेकी की दीवार स्थापित कर दी।  क्लब की लोकप्रियता को देखता हुए शहर ने दानी सज्जनो ने दिल खोल कर नेकी की दीवार पर भारी मात्रा में पुरुषो , महिलाओं और बच्चो के  हर प्रकार के कपडे , जूते , और अन्य सामान देना शुरू कर दिया , धीरे धीरे इस नेकी की दीवार काफी लोकप्रिय हो गई जिसके फलस्वरूप सुबह से शाम तक कपडे और अन्य सामान लेने वाले  गरीबों  और जरुरतमंद लोगो की भीड़ लगी रहती है।   कैथल बाई साइकिल क्लब  के सभी सदस्य प्रतिदिन साइकिल पर सैर करने के पश्चात  शहीद स्मारक पार्क में व्यायाम , योग ,मैडिटेशन करने के पश्चात  इस नेकी की दीवार पहुंचते है और वह लोगो द्वारा दिए गए कपड़ो की गांठो को खोल कर कपड़ो को सही ढंग से नेकी की दीवार पर लटकाते है और वहां रखे बड़े बड़े ट्रंकों में रखते है।   कैथल बाई साइकिल क्लब द्वारा संचालित यह नेकी की दीवार पुरे प्रदेश में इतनी लोकप्रिय हो चुकी है कि हरियाणा सरकार के मंत्री , विधायक , उच्च अधिकारियो सहित दूसरे शहरो की बड़ी बड़ी समाजसेवी संस्थानों से जुड़े लोग इसे देखने आते है।
  हैरानी की बात तो यह है कि कैथल जिला के तत्कालीन  उपायुक्त के एम् पांडुरंग  और  पुलिस अधीक्षक कृष्ण मुरारी  कैथल से बदल जाने के बाबजूद भी  कैथल बाई साइकिल क्लब से अपना संपर्क लगातार बनाये हुए है।  क्लब के अध्यक्ष सचिन धमीजा , प्रयाग राज बालू,  शमशेर सिंह  और क्लब के पैट्रन क्लब के पैट्रन  एन के मल्होत्रा ने  कैथल बाई साइकिल क्लब की चौथी वर्षगांठ के अवसर पर कैथल की जनता को बधाई एवं धन्यवाद व्यक्त करते हुए कहा कि वे वरिष्ठ आई ए एस अधिकारी  के एम् पांडुरंग  और  वरिष्ठ आई पी एस अधिकारी  कृष्ण मुरारी के दिल से आभारी है जिन्होंने कैथल में ऐसी संस्था का गठन किया था , उन्होंने कहा कि  अधिकारियो के आशीर्वाद और दिशानिर्देशों से यह क्लब दिन प्रति दिन तरक्की और लोकप्रिय हो रहा है।  उल्लेखनीय है कि क्लब की शुरुआत में जब सुबह सवेरे साइकिल सवारों का काफिला  तत्कालीन  उपायुक्त के एम् पांडुरंग  और  पुलिस अधीक्षक कृष्ण मुरारी शहर  की गलियों और बाजारों से गुजरता था तो कई जगहों पर लोग अपनी दिक्कतो के बारे में बताते थे तो डी सी  के एम् पांडुरंग तुरंत  साइकिल पर चल रहे उनके पी ए रमेश कुमार को नोट करवाते थे और अपने ऑफिस में पहुंचते ही जनता की दिक्कतों को दूर करते थे , जिस कारण  यह क्लब पुरे शहर के बच्चे बच्चे की जुबान पर हो गया था , हैरानी  तो यह है कि इन दोनों अधिकारियो का तबादला हो जाने पर भी इनके संपर्क और आशीर्वाद से  कैथल बाई साइकिल क्लब उसी प्रकार लगातार आगे बढ़ता रहा।  आज भी कैथल की जनता  वरिष्ठ आई ए एस अधिकारी  के एम् पांडुरंग  और  वरिष्ठ आई पी एस अधिकारी  कृष्ण मुरारी को याद करते है।

उन्होंने कैथल जिला की जनता का भी धन्यवाद व्यक्त करते हुए कहा कि दानी लोगो द्वारा भारी मात्रा में कपडे और अन्य सामान समय समय पर दिया जाता है जिसकारण यह क्लब नेकी की दीवार के जरिए गरीब और जरुरतमंद लोगो की मदद कर रहा है ,  उल्लेखनीय है कि क्लब देश के किसी प्रान्त में आने वाली विपदा के समय भी जिला प्रशासन के सहयोग से वहा के लोगो की सहायता के लिए सामान भेजता है , कैथल  प्रशासन द्वारा समय समय पर आयोजित किये जाने वाले कई कार्येकर्मों में भी  कैथल बाई साइकिल क्लब बढ़चढ़ कर भाग लेता है।  क्लब के सक्रीय सदस्य राव सुरेंदर सिंह , ललित दिलकश , टेक चंद वर्मा  , शीतल भारद्वाज , जितेंदर बंसल , राजेंदर तंवर , ओम प्रकाश सैन , रूप लाल आहूजा , सुनील महरा , मोहिंदर लोकवाल , श्रावण कुमार , प्रमोद भाटिया , वेद लोकवाल , अशोक अरोरा , पवन पहलवान , भीम लोकवाल , वेद प्रकाश मित्तल , सुरेंदर गोयल , संजीव गुप्ता सहित अन्य सदस्यों ने लोगो से अपील की है कि वह स्वस्थ रहने के लिए प्रतिदिन साइकिल चलाये और नेकी की दीवार पर दिल खोल कर कपडे और अन्य सामान दान करे जो उनकी जरुरत में नहीं है ताकि अधिक से अधिक गरीब और जरूरतमंद लोगो की सहायता की जा सके।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।