सडक हादसों से होने वाली मृत्यु दर में 3.55 प्रतिशत की गिरावट
November 3rd, 2019 | Post by :- | 93 Views
चंडीगढ़, ( महिन्द्र पाल सिंहमार ) ।   हरियाणा पुलिस के निरंतर प्रयासों से प्रदेश में इस साल भीषण और जानलेवा सड़क हादसों में लगातार गिरावट देखी जा रही है। जनवरी से सितम्बर 2019 तक सड़क हादसों से होने वाली मृत्यु दर में गत वर्ष इसी अवधि की तुलना में 3.55 प्रतिशत गिरावट दर्ज की गई है। इसी प्रकार, सड़क दुर्घटनाओं और घायल व्यक्तियों की संख्या में भी क्रमशः 4.47 प्रतिशत और 5.74 प्रतिशत की कमी आई है।
अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) श्री नवदीप सिंह विर्क ने आज यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि पुलिस द्वारा यातायात व सड़क सुरक्षा जागरूकता के लिए किए जा रहे निरंतर प्रयासों से यह संभव हो पाया है। उन्होंने कहा कि पुलिस द्वारा हरियाणा विज़न जीरो प्रोजेक्ट के तहत संबंधित एजेंसियों के साथ बेहतर तालमेल बनाते हुए सड़क सुरक्षा सुनिश्चित करने की दिशा में व्यापक एतिहाती कदम उठाए गए हैं।
  सडक सुरक्षा से जुडे आंकड़ों को साझा करते हुए श्री विर्क ने कहा कि जनवरी और सितंबर के बीच सड़क दुर्घटना से होने वाली मृत्यु की संख्या 3882 से घटकर 3744 रह गई है। इसीप्रकार, सड़क हादसों के मामले भी 8521 से घटकर 8140 रह गए जो कि पिछले साल से 381 कम है। इसके अतिरिक्त, घायल व्यक्तियों की संख्या में भी 425 मामलों की गिरावट सामने आई है। पिछले साल 7401 की तुलना में इस साल सितंबर तक सडक हादसों में कुल 6976 लोग घायल हुए।
  श्री विर्क ने कहा कि हरियाणा पुलिस द्वारा संबंधित विभागों के साथ बेहतर तालमेल बनाकर सड़क के बुनियादी ढांचे में सुधार किया गया है। साथ ही, पुलिस द्वारा ड्रिंक ड्राइविंग पर लगाम लगाने तथा भारी वाहनों में सभी प्रकार के सुरक्षात्मक उपायों को सुनिश्चित करने के लिए भी कड़ी नजर रखी जा रही है। उन्होंने कहा कि सडक सुरक्षा के प्रति जागरूकता पैदा करने और दुर्घटनाओं व मृत्यु दर को और कम करने के लिए पुलिस के प्रयास लगातार जारी रहेंगे।
  उन्होंने लोगों से आग्रह करते हुए कहा कि वे सडक पर चलते हुए ट्रैफिक नियमों का पालन कर दूसरों के साथ-साथ अपने बहुमूल्य जीवन की भी सुरक्षा करे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।