श्रीकृष्ण रुपसज्जा में विद्यार्थियों ने दिखाए कृष्ण स्वरुप, जन्माष्टमी के उपलक्ष्य में हुई प्रतियोगिता
August 23rd, 2019 | Post by :- | 435 Views

कुरुक्षेत्र, ( सुरेश पाल सिंहमार )    ।       श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के उपलक्ष्य में विद्या भारती संस्कृति शिक्षा संस्थान व हरियाणा कला परिषद् मल्टी आर्ट कल्चरल सेंटर द्वारा श्रीकृष्ण रुपसज्जा व सांस्कृतिक संध्या का विद्या भारती के नैमिषारण्य सभागार में आयोजन किया गया।

इस अवसर पर स्थानीय विधायक सुभाष सुधा बतौर मुख्यअतिथि उपस्थित रहे। वहीं कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि समाजसेवी व संचालक प्रेरणा संस्था जयभगवान सिंगला रहे। इस मौके पर नगर पालिका अध्यक्षा उमा सुधा, मैक के क्षेत्रीय निदेशक नागेंद्र शर्मा, विद्या भारती के सह सचिव वासुदेव प्रजापति, क्षेत्रीय सह संगठन मंत्री बाल किशन, डॉ० पंकज शर्मा, डॉ० सी सी त्रिपाठी, डॉ० आर ऋषि तथा भाजपा महिला मोर्चा अध्यक्षा रेणू खुग्गर भी विशेष रुप से उपस्थित रही। विद्या भारती संस्कृति शिक्षा संस्थान के निदेशक डा. रामेंद्र सिंह ने सभी अतिथियों का स्वागत किया।

कार्यक्रम का शुभारम्भ अतिथियों द्वारा दीप प्रज्जवलित कर किया गया। कार्यक्रम का आगाज गणेश वंदना से हुआ। कत्थक नृत्यांगना मालविका पंडित के निर्देशन में महिला कलाकारों ने गणेश स्तुति कर अपनी प्रतिभा को दिखाया। इसके बाद श्रीकृष्ण रुपसज्जा प्रतियोगिता में विभिन्न विद्यालयों से लगभग 125 विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया। प्रतियोगिता हेतु विद्यालय स्तर पर तीन वर्ग बनाए गए थे, जिसमें शिशु वर्ग, बाल वर्ग तथा किशोर वर्ग में एकल व समूह प्रस्तुतियां रहीं तथा एक अन्य वर्ग सहित प्रत्येक वर्ग के विद्यार्थियों ने भगवान कृष्ण की वेशभूषा में तैयार होकर प्रतियोगिता में प्रतिभागिता की। एक ओर जहाँ शिशु वर्ग में भगवान कृष्ण के रुप में विद्यार्थी मनमोहक लग रहे थे, वहीं बाल वर्ग व किशोर वर्ग में प्रतिभागिता कर रहे प्रतिभागियों ने भगवान कृष्ण के स्वरुप में संवाद अदायगी से भी सभी का मन मोहा। एक के बाद एक प्रतिभागी ने अपनी प्रस्तुति से प्रतियोगिता में चार चांद लगाए। वहीं मल्टी आर्ट कल्चरल सेंटर की ओर से आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में सन्नी कुमार व संजना ने शुद्ध कत्थक नृत्य की प्रस्तुति दी। वहीं नृत्य नाटिका भजेबृज में भगवान कृष्ण की लीलाओं का वर्णन करते हुए जन्माष्टमी के महत्व को दिखाया। प्रतियोगिता में प्रत्येक वर्ग से पांच पांच विद्यार्थियों को विजेता घोषित करते हुए स्मृति चिन्ह, गीता प्रश्नोत्तरी, अष्टादशश्लोकीगीता तथा प्रमाण पत्र भेंट किए गए। निर्णायक मण्डल में डा. सुरेन्द्र मोहन मिश्र, डॉ० सुशील, विवेक जैन, ज्ञानेश्वर, डॉ० आर के सिंहआदि शामिल रहे। कार्यक्रम के दौरान मुख्यअतिथि सुभाष सुधा ने सभी को सम्बोंधित करते हुए कहा कि जन्माष्टमी के उपलक्ष्य में आयोजित श्रीकृष्ण रुपसज्जा से भगवान कृष्ण के स्वरुप के दर्शन करने का अवसर प्राप्त हुआ है। कुरुक्षेत्र के विकास के लिए सदा प्रयासरत रहूँगा, श्रीकृष्ण का जीवन सभी को प्रेरणा देता है। विद्या भारती संस्कृति शिक्षा संस्थान की ओर से आयोजित कार्यक्रम में जहाँ आज के आधुनिक युग में युवा वर्ग को भारतीय संस्कृति का बोध हो रहा है, वहीं विद्यार्थियों को भारतीय संस्कृति से जुड़ने का अवसर भी मिला है। उन्होंने सभी प्रतिभागियों को बधाई दी। डा. रामेंद्र सिंह ने मुख्यअतिथि को स्मृति चिन्ह भेंटकर आभार जताया। वहीं कार्यक्रम अध्यक्ष जयभगवान सिंगला व नागेंद्र शर्मा को भी स्मृति चिन्ह भेंट किए गए।

इस मौके पर मंच का संचालन विकास शर्मा व हरिकेश पपोसा ने किया। कार्यक्रम के दौरान विजयंत बिन्दल, रमेश गुलाटी, हरीसिंह, के सी रंगा, हीरालाल सैनी तथा विभिन्न विद्यालयों के शिक्षक व प्रतिभागियों के अभिभावक उपस्थित रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।