“जोगी निक्का जेहा” भजन एलबम का एसडीएम द्वारा किया गया विमोचन
October 31st, 2019 | Post by :- | 156 Views
गिददे व भजनों की एलबम लाने वाले क्षेत्र के प्रसिद्ध निर्माता पोला राम ढांगवाला अपने नए भजन जोगी निक्का जेहा को लेकर आए है। इस गीत को आवाज दी है परवाणु की रहने वाली अनु ठाकुर ने। अनु ठाकुर इससे पहले मॉडलिंग की दुनिया में अपने जौहर दिखा चुकी है और पहली बार वह गायकी के क्षेत्र में उतरी है। बाबा बालकनाथ के इस गीत को पोलाराम ढांगवाला ने ही लिखा है और इसे संगीतबद्ध मदन शौंकी ने किया है। वाईएमएन स्टूडियो में इस गीत को रिकार्ड किया गया है और ऋषि शर्मा के सहयोग से इस गीत को बाजार में उतारा गया है। इस गीत का विमोचन एसडीएम नालागढ़ प्रशांत देष्टा ने किया। एसडीएम नालागढ़ प्रशांत देष्टा ने कहा कि क्षेत्र में प्रतिभाओं की कमी नहीं है और गीत संगीत और खेल जगत में इस क्षेत्र ने नित नए मुकाम हासिल किए है। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के गायकों को बढ़ावा देने के लिए हैरिटेज पार्क व स्टेडियम में बने ऑडिटोरियम सांयकालीन संध्या का आयोजन होगा, जिसमें वह अपनी प्रस्तुति देंगे, जिससे जहां उनमें छिपी प्रतिभा को और निखार मिलेगा, वहीं लोगों का भी मनोरंजन होगा।
इस मौके पर पोलाराम ढांगवाला ने कहा कि नए कलाकारों के भीतर छिपी प्रतिभा को निखारने के लिए सदैव प्रयासरत रहते है और वर्षों से नए कलाकारों को अधिमान दे रहे है। उन्होंने कहा कि जल्द ही उनकी बड़े परदे की हिमाचली फीचर फिल्म यारियां भी आ रही है, जिसकी शूटिंग 15 नवंबर से शुरू होगी। वहीं गायिका अनु ठाकुर ने कहा कि संगीत उन्हें विरासत में मिला है और उनके पिता भी जागरण करते है। उन्होंने कहा कि उन्हें बचपन से ही गाने का शौक है और वह मॉडलिंग करती है और कई वीडियो में अभिनय कर चुकी है। पोलाराम ढांगवाला ने उनकी आवाज को सुना और उनके भीतर छिपी प्रतिभा को और निखारने के लिए उन्होंने इस भजन को उनसे गाने को कहा, जिसके लिए वह पोलाराम ढांगवाला का शुक्रिया अदा करती है। इस मौके पर लोनिवि विश्राम गृह नालागढ़ में आयोजित कार्यक्रम में नगर परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष धर्मेंद्र राणा, हैरिटेज सोसायटी के सदस्य राजीव शर्मा भी मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।