देश की आंतरिक सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सबको देना होगा योगदान:फुलिया
October 31st, 2019 | Post by :- | 99 Views
कुरुक्षेत्र, ( सुरेश पाल सिंहमार )    ।     उपायुक्त डा. एसएस फुलिया ने कहा कि राष्ट्र की एकता, अंखडता और सुरक्षा को बनाए रखने के लिए सभी को समर्पित भाव से कार्य करना होगा और देश की आंतरिक सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आमजन को अपना योगदान देना होगा। इतना ही नहीं एकता ही देश की सबसे बड़ी ताकत होती है।
उपायुक्त डा. एसएस फुलिया वीरवार को सुबह द्रोणाचार्य स्टेडियम में जिला प्रशासन द्वारा लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की 144वीं जयंती को राष्ट्रीय एकता दिवस के रुप में मनाने के अवसर पर आयोजित रन फार यूनिटी कार्यक्रम में बोल रहे थे। इससे पहले उपायुक्त डा. एसएस फुलिया, पुलिस अधीक्षक आस्था मोदी, एसडीएम अश्विनी मलिक, एसडीएम अनिल यादव, नगराधीश सतबीर कुंडू, डीएसपी भारत भूषण, डीएसओ यशबीर सिंह, डीईओ अरुण आश्री ने सरदार वल्लभ भाई पटेल की तस्वीर पर पुष्प अर्पित किए और हजारों युवाओं को शपथ दिलाकर रन फार यूनिटी के लिए पैदल दौड़ को हरी झंडी देकर रवाना किया।
उन्होंने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल जी की जयंती पर आयोजित एकता के लिए दौड़ में शामिल होकर मुझे बड़ा गर्व हो रहा है। यह केवल दौड़ नहीं बल्कि राष्टï्रीय की एकता एवं अखंडता की कडिय़ों को मजबूत बनाने का एक माध्यम है। सरदार वल्लभ भाई पटेल के आदर्र्शों से हमारे देश के भावी कर्णधारों को परिचित करवाने और राष्ट्रीय एकता की कडिय़ों को मजबूत बनाने के लिए लौह पुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया गया है। उन्होंने कहा कि आज देश की नौजवान पीढ़ी को भारत रत्न सरदार वल्लभ भाई पटेल के जीवन से प्रेरणा लेने की जरुरत है, जब युवा पीढ़ी उनके पद चिन्हों पर चलकर एकता के सूत्र में बंधेगी तो दुनिया की कोई भी ताकत भारत को विश्वगुरु बनाने से नहीं रोक पाएगी।
पुलिस अधीक्षक आस्था मोदी ने कहा कि लौह पुरुष सही मायने में राष्ट्रीय एकता की प्रतिमूर्ति और बेजोड़ शिल्पी थे। स्वतंत्र भारत को अखण्ड बनाने का श्रेय उन्हीं को जाता है। आजादी के बाद भारत के प्रथम गृहमंत्री के रूप में उन्होंने 562 छोटी-बड़ी रियासतों का भारतीय संघ में विलय करवाकर अखण्ड भारत और राष्ट्रीय एकता की नींव डाली थी। दुनिया के इतिहास में एक भी व्यक्ति ऐसा नहीं हुआ, जिसने इतनी बड़ी संख्या में रियासतों का बिना किसी रक्तपात के विलय करवाया हो। लौह पुरुष किसानों की आत्मा थे और जन-जन के दिलों में बसते थे। उनके जीवन का हर पहलू हमें प्रेरणा देता है। आजादी के बाद वे भारत के प्रथम गृहमंत्री बने। इस पद पर रहते हुए उन्होंने अपनी कुशल प्रशासकीय क्षमता का परिचय दिया। उन्होंने कहा कि देश को एक सूत्र में पिरोने के लिए भारत रत्न वल्लभ भाई पटेल ने अहम भूमिका निभाई। आज देश और समाज को एकजुट होने की जरुरत है और आज युवा पीढ़ी को इससे प्रेरणा लेनी चाहिए।
इस मौके पर साई इंचार्ज गुरविन्द्र सिंह, डिप्टी डीईओ बलजीत सिंह, बीईओ विनोद कौशिक, जयभगवान, शमशेर सिंह, मनोज कुमार, जितेन्द्र कुमार, सुरेन्द्र कौर, पंजाब सिंह, पंकज परासर, शिवकुमार, अजय, पीओ बलवान गोलन, राहगिरी के कार्डिनेटर नरेश सागवाला, एसपी के पीआरओ रोशन सहित अधिकारी व कर्मचारी, प्रशिक्षक, साई के खिलाडिय़ों व प्रशिक्षकों सहित हजारों की संख्या में खिलाड़ी व विभिन्न स्कूलों के विद्यार्थी मौजूद थे।
रन फार यूनिटी के लिए दौड़े अधिकारी, कर्मचारी व खिलाड़ी
लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर प्रदेश की युवा पीढ़ी को राष्ट्र की एकता एवं अखंडता को मजबूत बनाने के उदेश्य से अधिकारियों के साथ-साथ कर्मचारी व सैंकड़ों खिलाड़ी दौड़े। सभी खिलाड़ी द्रोणाचार्य स्टेडियम, सैक्टर-10, आकाशवाणी चौंक से होते हुए वापिस द्रोणाचार्य स्टेडियम में पहुंचे।
सैंकड़ों बच्चों के हाथों में दिए गए शपथ पत्र
लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल के जयंती समारोह को राष्ट्रीय एकता दिवस के रुप में मनाने के लिए जहां रन फार यूनिटी कार्यक्रम का आयोजन किया वहीं युवाओं को लौह पुरुष के सक्षिप्त जीवन परिचय को जानने और शपथ पत्र से सम्बन्धित सामाग्री भी वितरित की गई।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।