( वायरल आडियों भी सुने ) टिकट कटने पर श्याम सिंह राणा ने गद्दारी कर चुनाव हरवाया : कर्ण देव काम्बोज
October 30th, 2019 | Post by :- | 189 Views

यमुनानगर। यमुनानगर की रादौर विधानसभा सीट से चुनाव हारे मनोहर सरकार के पूर्व राज्यमंत्री कर्ण देव काम्बोज ने सीधे-सीधे अपनी ही पार्टी के पूर्व विधायक श्याम सिंह राणा पर चुनाव हरवाने के आरोप लगाए हैं। काम्बोज ने कहा कि राणा ने पार्टी कार्यकर्ताओं को प्रचार करने से रोका। राणा के कथित दो अॉडियो भी वायरल हुए हैं, जिसमें वे किसी को चुपचाप बैठने के लिए कह रहे हैं। हालांकि इस पर सफाई देते हुए राणा ने कहा है कि आवाज तो मेरी है लेकिन ये देखना पड़ेगा कि यह किस संदर्भ में कही गई है।

श्याम सिंह राणा की आडियों वायरल

Lokhitexpress.com यांनी वर पोस्ट केले बुधवार, ३० ऑक्टोबर, २०१९

 

2014 विधानसभा चुनाव में श्याम सिंह राणा रादौर विधानसभा से भाजपा की सीट पर चुनकर आए थे। 2019 के विधानसभा चुनाव में पार्टी ने उनकी टिकट काट दी और उनकी जगह इंद्री सीट से विधायक व मनोहर सरकार में राज्यमंत्री कर्ण देव काम्बोज को टिकट दे दी।

काम्बोज चुनाव हार गए। हार के बाद काम्बोज ने सीधे-सीधे पूर्व विधायक श्याम सिंह राणा पर आरोप लगाया है। उनका कहना है कि राणा ने पार्टी की पीठ में छूरा घोंपा है। उनके पास तमाम सुबूत है, जो राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को दिखाउंगा। काम्बोज ने कहा कि राणा ने सरपंचों की बैठक लेकर कहा कि काम्बोज को चुनाव हरा दो। काम्बोज का कहना है राणा चुनाव की शुरूआत से ही इस काम में लगे रहे कि मुझे हराना है। उन्होंने चुनाव में कोई मदद नहीं की।

 

श्याम सिंह राणा ने ने कहां कि कर्ण देव काम्बोज ताजा-ताजा चुनाव हारे हैं, इस वजह से वे हार को पचा नहीं पा रहे हैं। तभी पार्टी के लोगों पर ही आरोप लगा रहे हैं। राणा का कहना है कि मैंने संगठन को खड़ा किया। तभी कर्ण देव को इतने वोट मिल गए। मैंने हमेशा पार्टी के लिए काम किया है। कर्ण देव हार गए हैं तो इस तरह की बातें कर रहे हैं, ये बातें उनके मुंह से शोभा नहीं देती। मैंने हर जगह पार्टी की सहायता की। अॉडियो पर सफाई देते हुए श्याम सिंह राणा ने कहा कि इनमें आवाज तो मेरी है लेकिन ये देखना पड़ेगा कि यह बात मैंने कब कही थी। अॉडियो पुरानी हो सकती है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।