धूमधाम से मनाया गया दीपावली पर्व, विश्कर्मा जयंती, भाईदूज
October 29th, 2019 | Post by :- | 113 Views

गजसिंहपुर,(यश कुमार)। क्षेत्र में दीपों का त्यौहार दीपावली रविवार को बड़े धूमधाम से मनाया गया हालांकि दीपावली से एक दिन पूर्व तक बाजार में ग्राहकी का स्तर त्यौहारी सीजन जैसा नही रहा लेकिन इसके बावजूद धार्मिक आस्था के प्रतीक इस त्यौहार को लोगो ने बड़े ही उत्साह पूर्वक मनाया है।

लक्ष्मी पूजन का समय होते ही लोगो ने अपने घरों तथा प्रतिष्ठानों पर भगवान श्री गणेश ओर लक्ष्मी एवं कुबेर देवता के साथ साथ अन्य देवी देवताओं की पूजा भी पूरी श्रद्धा के साथ की एक ओर जहाँ घरों और दुकानों पर पूजा हुई तो वहीं लोगो ने मन्दिरो ओर गुरुद्वारों में भी भगवान के दरबार मे आस्था प्रकट करते हुए श्रद्धा के दीप जलाए ।

लोगो ने अपने घरों और दुकानों की मन्डेरो पर तेल व घी के दीपक जलाएं शहर भर में घरों पर दीपो व लाइटो की रोशनी ही नज़र आई ओर बच्चो से लेकर बुढो तक व महिलाओं ने भी आतिशबाजी का नज़ारा लेते हुए पटाखे आदि चलाए वही लोगो द्वारा अपने रिश्तेदारों व शुभचिंतको को दीपावली की बधाइयां देते हुए खुशी प्रकट की ।

दीपावली के त्यौहार के मद्देनजर लोगो ने घरों में भी पकवान आदि बनाकर देवी देवताओं को भोग आदि लगाए तथा वही आर्थिक मंदी के बावजूद मिठाई की दुकानों पर दीपावली के दिन ग्राहकी खूब रही तथा ग्रामीण क्षेत्रों से आये लोगो सहित शहरी लोगो ने भी मिठाई व रेडीमेड वस्त्र तथा अन्य सामान खरीदा ।

इस मौके पर महिलाओं द्वारा अपने अपने घरों के पास सुन्दर सुन्दर रंगोलियां भी बनाई गई जो काफी आकर्षक का केन्द्र रही इसके साथ ही सोमवार को कस्बे के बाबा दीप सिंह जी शाहिद गुरुद्वारा में मिस्त्री समाज द्वारा श्री विश्वकर्मा जयंती मनाई गई जिसके उपलक्ष में सभी कारीगरों ने अपनी दुकानों को बन्द रखा।

श्री सत्यनारायण मन्दिर में रात्रि को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सदस्यों द्वारा स्नेह मिलन कार्यक्रम का आयोजन किया गया व आज भाई बहन के प्यार के प्रतीक भाई दूज का त्यौहार भी बड़े ही उत्साह के साथ मनाया गया जिसमें बहन द्वारा भाई को तिलक करने पर भाई द्वारा आशीर्वाद स्वरूप उपहार भी भेंट किए गए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।