भगवान महावीर के जियो और जीने दो के संदेश से समाज हुआ समृद्ध : जैन
October 28th, 2019 | Post by :- | 149 Views

सोनीपत, लोकहित एक्सप्रैस, ( अश्वनी गोयल ) l
पूर्व महिला एवं बाल विकास मंत्री कविता जैन ने कहा कि भगवान महावीर के जियो और जीने दो के संदेश से समाज की संरचना समृद्ध हुई है और इससे आपसी भाईचारा मजबूत हुआ है। उन्होंने कहा कि राष्ट्र के विकास के लिए समाज का विकास भी महत्वपूर्ण कारक है और इस दिशा में जैन धर्म सदैव सबको साथ लेकर चलने का संदेश देकर जन-जन के मनोबल की बढोतरी करता है।
सोमवार की सुबह पूर्व मंत्री कविता जैन एवं मुख्यमंत्री के पूर्व मीडिया सलाहकार राजीव जैन ने भगवान महावीर के मोक्ष दिवस के अवसर पर गन्नौर स्थित गुप्तिधाम परिसर, सोनीपत के सेक्टर 15 स्थित जैन मंदिर एवं मिशन रोड स्थित दिगंबर जैन मंदिर परिसर में विशेष पूजा-अर्चना की तथा निर्वाण लड्डू चढाया। श्रद्धालुओं के मध्य पूर्व मंत्री कविता जैन ने अपने विचार रखते हुए कहा कि जैन धर्म के अंतिम तीर्थंकर महावीर स्वामी को 527 ई. पूर्व में कार्तिक अमावस्या के उषा काल में मोक्ष की प्राप्ति हुई थी। पावापुरी की पावन धरा से उन्होंने पूरी दुनिया को शांति का संदेश दिया। उनके निर्वाण अवसर पर उनके प्रधान शिष्य प्रथम गणधर गौतम स्वामी को पूर्व ज्ञान की प्राप्ति हुई थी। उन्होंने कहा कि जीवन में हमें सतर्क रहना चाहिए कि हमारे कारण किसी अन्य को कोई परेशानी न हो, यदि ऐसा करने में हम सफल रहते हैं तो हर वर्ग, हर समुदाय के नागरिकों के मध्य सौहार्द बढेगा और आपसी भाईचारा की भावना भी मजबूत होगी।
मुख्यमंत्री के पूर्व मीडिया सलाहकार राजीव जैन ने कहा कि मुक्ति और ज्ञान सबसे बडी लक्ष्मी है। ऐसे में हमें धैर्य और संयम के साथ अहिंसा विज्ञान को बढावा देना चाहिए। उन्होंने कहा कि भगवान महावीर ने न तो किसी पर अपने विचार थोपे और न किसी धर्म की स्थापना की। उन्होंने केवल मानवता और पर्यावरण के प्रति आमजन को सचेत रहने का आह्वान किया। वर्तमान समय में ईष्र्या, द्वेष की भावना के साथ-साथ पर्यावरण की अनदेखी हमारे सामने गंभीर प्रश्न है, जिसके लिए हमें मिलकर काम करना होगा, तभी हम अपने समाज और राष्ट्र को मजबूत कर पाएंगे।  इस मौके पर दिगंबर जैन मंदिर मंडी सोनीपत समिति के प्रधान एसके जैन, महामंत्री जयकुमार जैन, संयोजक टोनी जैन, मुकेश जैन, मनीष जैन, चतरसेन जैन, एडवोकेट हुकमचंद जैन, सुशीलचंद जैन, राजेश जैन, अतुल जैन, पीयूष जैन, राकेश जैन आदि मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।