टेडंर दिलवाने के नाम पर 27 लाख रूपये ठगी करने की वारदात मे सलिप्त आरोपित महिला को सीआईए-टू पुलिस टीम दिल्ली से लाई प्रोडक्शन वारंट पर।
August 23rd, 2019 | Post by :- | 64 Views

पानीपत (अमित जैन)

सीआईए-टू टीम प्रभारी इंस्पेक्टर दीपक कुमार ने बताया की 3 जूलाई 2018 को सुनील आहुजा निवासी माडल टाउन पानीपत ने थाना शहर मे शिकायत दे बताया की उसकी डिम्पल उर्फ आंनद निवासी न्यू जगननाथ विहार कालोनी पानीपत के साथ पुरानी जान पहचान थी।

जो डिम्पल उर्फ आनंद अश्वनी ओबराय निवासी पितमपुरा दिल्ली के साथ व्यापार करता है। इसी दोरान अश्वनी के साथ उसकी भी जान पहचान हो गई। अश्वनी ने बेटे वतन ओबराय, अचल ओबराय व रेनू मल्होत्रा निवासी बसंत कुंज दिल्ली के साथ मिलकर उसको मानंव संसाधन मंत्रालय के टेंडर तौलिये, कंबल सप्लाई करवाने का टेंडर दिलवाने का झासा दिया।

टेडर की बीट पूरी करने की एवज मे उक्त सभी आरोपियो ने 27 लाख की माग की। इसके बाद आरोपियो ने रेणु मल्होत्रा का अकाउंट नंबर देकर खाते मे कई बार करके आनलाईन 27 लाख रूपये ट्रांसफर करवा लिए। कुछ समय बाद आरोपियों ने टेंडर के संबध मे मानव संसाधन मंत्रालय से जारी किया एक अप्रुवल लेटर उसको दे दिया।

जिसकी मानव संसाधन मंत्रालय से जांच करवाई गई तो वो लेटर फर्जी पाया गया। इसके बाद उसने पैसे वापिस लेने के लिए आरोपियो से संपर्क करने का प्रयास किया तो सभी ने उसके फोन उठाने बंद कर दिए। उक्त सभी आरोपियो ने मानव संसाधन मंत्रालय के टेंडर तौलिये, कंबल सप्लाई करने का टेडंर दिलवाने के नाम पर उससे 27 लाख रूपये ठगी की गई। इस संबध मे सुनील आहुजा की शिकायत पर थाना शहर मे भा.द.स की धारा 406,419,420,467,468,471 के तहत मुकदमा नंबर 922/19 दर्ज है।

पुलिस अधीक्षक सुमित कुमार ने मुकदमे की जांच गत दिनो सीआईए-टू पुलिस टीम को सोपी थी। सीआईए-टू पुलिस की टीम मामले की गहनता से जांच करते हुए आरोपियों के संभावित ठिकानो पर गई तो आरोपी वहा से फरार मिले। रेनू मल्होत्रा के बारे जानकारी जूटाई गई तो सामने आया उसके खिलाफ धोखाधड़ी के पांच मुकदमे दिल्ली, एक गुडगांव व एक मुकदमा राजस्थान मे दर्ज है।

जो एक मामले के संबध मे दिल्ली जेल मे बंद है। गहनता से पुछताछ करने के लिए 17 अगस्त 2019 को सीआईए-टू की टीम आरोपी रेनू मल्होत्रा को दिल्ली से प्रोडक्शन वारंट पर पानीपत लेकर आई। आरोपी महिला को न्यायालय मे पेश कर पांच दिन का पुलिस रिमांड लिया गया।

रिमांड के दोरान गहनता से पुछताछ करने पर आरोपी महिला ने बताया की उसके बैक अंकाट का केवल प्रयोग हुआ है। सारे पैसे अश्वनी ओबराय के पास है। पांच दिन की रिमांड अवधी समाप्त होने पर आरोपी रेनू मल्होत्रा को न्यायालय मे पेश कर न्यायिक हिरासत भेजा गया।

मुकदमे के संबध मे फरार आरोपियो के संभावित ठिकानों पर सीआईए-टू पुलिस टीम द्वारा लगातार दंबिस दी जा रही है। जल्द ही आरोपियों को काबु कर लिया जाएगा।

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।