पेंशनर एसोसिएशन की बैठक, मेडिकल बिलों का भुगतान के लिए बजट का प्रावधान करें सरकार
October 20th, 2019 | Post by :- | 78 Views

पेंशनर एवं सीनियर सीटिजन के जिला अध्यक्ष केडी शर्मा ने कहा कि समाज सेवा के क्षेत्र में निजी संस्थाओं जुड़ कर सरकार के विकास कार्यो में भूमिका निभा रहे है। पेंशनर अपने अनुभव से लोगों को जागृृृृत कर रहे है। वह रविवार को बरोटीवाला में जिला स्तरीय बैठक में बोल रहे थे।
उन्होंने कहा कि पेंशनरों को 65, 70 व 75 का कार्यकाल पूरा करने पर पांच, दस तथा पंद्रह फीसदी वेतन भत्ते को मूल वेतन में जोड़ा जाए। यह मांग पिछली सरकार ने पूरी तो कर दी थी लेकिन अभी तक अधिसूचना जारी नहीं की है। जिससे पेंशनरों को इस योजना का लाभ नहीं मिल रहा है। इसके अलावा पेंशनरों को मेडिकल बिलों का भुगतान नहीं हो रहा है। जिससे पेंशनरों के सामने आर्थिक संकट पैदा हो गया है। कई बार सरकार को अवगत कराने के बाद भी मेडिकल बिलों के लिए बजट का प्रावधान नहीं किया गया है।
के.डी. शर्मा ने संयुक्त सलाहकार सीमित की बैठक कराने की मांग की है जिससे पेंशनर अपनी मांगो को रख सके। अभी तक बैठक नहीं बुलाई गई है। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग र्कित पड़े पदों को भरने की मांग की है। जिले भर में स्वास्थ्य केंद्रों व चिकित्सालयों में चिक्तिसकों व अन्य स्टाफ के बद रिक्त होने से रोगियों को परेशानी उठानी पड़ रही है। वरिष्ठ उपाध्यक्ष जीआर भारद्वाज ने पुरानी पेंशन स्कीम को बहाल करने की मांग की है। इसके अलावा उन्होंने वर्ष 2006 से पहले सेवानिवृत हुए पेंशनरों को पेंशन निर्धारण का लाभ देने की मांग की है। बैठक में बरोटीवाला मैदान में स्टेडिम का निर्माण कराने की मांग रखी है। यहां पर शिक्षा विभाग की 20 बीघा जमीन खाली पड़ी है। स्टेडिय़म बनने से यहां पर बाहरी राज्यों से भी खेलकूद प्रतियोगिता कराई जा सकती है। बैठक में बरोटीवाला के प्रधान प्रकाश चंद, उदय राम चौधरी, नालागढ़ के सीता राम ठाकुर, देवेंद्र ठाकुर, केडी कश्यप, बलदेव रोशन लाल, कृष्ण सिंह चौहान, गोपाल ठाकुर, धनी राम, रोशन लाल, श्याम लाल, बिमला देवी, जयदेव रूप राम, सूर्य कांत, रूप चंद ठाकुर, जयदेव ठाकु र, नेक राम, बीरमल, प्रेम चंद समेत गणमान्य लोग उपिस्थत रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।