पहले मुख्यमंत्री खट्टर, विर्क और सन्नी देओल पर तुरंत कार्यवाही करें चुनाव आयोग – जयहिन्द
October 20th, 2019 | Post by :- | 100 Views

रोहतक | आम आदमी पार्टी प्रदेशाध्यक्ष नवीन जयहिन्द ने आज पत्रकारों से बातचीत में कहा कि पानीपत में हमारे एक कार्यकर्ता इसराना से प्रत्याशी के प्रतिनिधि के रूप में इवीएम चेक के लिए पहुंचे | जब उन्हें इवीएम में कुछ गड़बड़ी लगी तो चुनाव आयोग के अधिकारियों से सवाल किये तो कोई जवाब नहीं मिला | कार्यकर्ता ने फेसबुक पर इवीएम की व् चुनाव आयोग के अधिकारियों की लापरवाही की फोटो –विडियो डाली तो कुछ ही देर में कार्यकर्ता को घर से उठा लिया गया, फोटो-वीडियो फेसबुक से जबरदस्ती डिलीट करवा दी गई | सोशल मिडिया पर इवीएम से सम्बन्धित हजारों वीडियो व् फोटो मिल जाएँगी | जब इवीएम में कोई गड़बड़ी नही थी तो चुनाव आयोग के अधिकारी क्यों डरे ? प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि चुनाव आयोग मुझे नोटिस भेज रहा है कि आपके हाथ में फरसा है | ये फरसा किसी की गर्दन काटने के लिए नही बल्कि जनता को याद दिलाने के लिए है कि मुख्यमंत्री गर्दन काट मुख्यमंत्री है |

जयहिन्द ने आगे कहा कि चुनाव आयोग पूरी तरह से मूक दर्शक बना हुआ है | भाजपा खुलेआम लोकतंत्र का मजाक बना रही है | जनता को डराया जा रहा है | पहले मुख्यमंत्री खट्टर आचार संहिता की धज्जियां उड़ा रहे थे | मुख्यमंत्री खट्टर कह रहे है इवीएम मतलब एवरी वोट फॉर मोदी , एवरी वोट फॉर मनोहर | वही भाजपा प्रत्याशी बक्शीश सिंह विर्क ने कहा कि कही वोट दो लेकिन जाएगी फूल पर ही | मशीन में पुर्जा फीट कर रखे है | किसने कहाँ वोट दी है ये भी पता जाता है | जनता को 5 साल भुगतने की धमकी दी | वही भाजपा सांसद सन्नी देओल चुनाव – प्रचार के दौरान गदा लहरा रहे थे | भाजपा नेताओं द्वारा दिए जा रहे इस तरह के बयान साफ़ दिखा रहे है कि इवीएम में कुछ गड़बड़ जरुर है |

जयहिन्द ने कहा चुनाव आयोग के दो ड्यूटी मेजिस्ट्रेट द्वारा आज मुझ पर दो बार छापा मारा गया व् फरसा हाथ में लेने पर नोटिस भेजा गया लेकिन भाजपा नेताओ द्वारा बार –बार किये जा रहे आचार संहिता उल्लंघन की तरफ चुनाव आयोग न तो ध्यान दे रहा है न ही कोई कार्यवाही की जा रही है | अतः चुनाव आयोग से निवेदन है कि निष्पक्ष चुनाव के लिए भाजपा नेताओं पर कार्यवाही की जाये ताकि लोकतंत्र की सुरक्षा हो व् जनता का चुनाव आयोग में विश्वास बना रहे |

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।