खर्च पर्यवेक्षक अमिताव भट्ïटाचार्य ने की प्रत्याशियों के खर्च रिकार्ड की जांच
October 19th, 2019 | Post by :- | 73 Views

बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ (गौरव शर्मा)

– भट्ïटाचार्य ने कहा, निर्वाचन आयोग के नियमों की हो दृढ़ता से पालना
झज्जर, 19 अक्टूबर। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा नियुक्त खर्च पर्यवेक्षक अमिताव भट्टाचार्य की उपस्थिति में खर्च निगरानी कमेटी द्वारा शनिवार को तीसरे चरण में 64-बहादुरगढ़, 65-बादली, 66-झज्जर (अ.जा.) व 67-बेरी विधानसभा क्षेत्र से चुनावी प्रत्याशियों के खर्च रिकार्ड की जांच पड़ताल की गई। खर्च पर्यवेक्षक के साथ डीईटीसी कुलदीप सिंह मलिक सहित खर्च जांच टीमें मौजूद रही।
खर्च पर्यवेक्षक ने कहा कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा विधान सभा चुनाव के दौरान प्रत्याशी की खर्च की सीमा 28 लाख रूपए निर्धारित की गई है। प्रत्याशी को चुनाव खर्च के लिए खोले गए बैंक एकाउंट से ही पेमेंट करते हुए निर्वाचन अधिकारी द्वारा मुहैया करवाये गए खर्च रजिस्टर को मेनटेन करना होगा। चुनाव खर्च का पूरा लेन-देन इसी बैंक एकाउंट के माध्यम से करना होगा। उन्होंने कहा कि सभी प्रत्याशियों को चुनाव परिणाम घोषित होने से 30 दिन की अवधि के अंदर अपना पूरा खर्च का ब्यौरा जिला निर्वाचन अधिकारी के पास दर्ज कराना होगा।
खर्च पर्यवेक्षक श्री भट्ïटाचार्य ने स्पष्टï किया कि चुनाव के दौरान 50 हजार से ज्यादा कैश लेकर चलना अवैध है। फ्लाईंग स्कवाएड और स्थायी निगरानी टीमें अपने-अपने एरिया में वाहनों की निरंतर चैकिंग करें। किसी व्यक्ति, प्रत्याशी, कार्यकर्ता आदि के वाहन में 50 हजार रूपये से अधिक कैश, पोस्टर, चुनावी सामग्री, अन्य ड्रग्स, शराब, हथियार और दस हजार से अधिक की कीमत के गिफ्ïट आइटम जो मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए है, मिलने पर वाहन को जब्त किया जा सकता है। इसलिए खर्च मानिटरिंग के लिए नियुक्त सहायक खर्च पर्यवेक्षक,जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा गठित वीएसटी, वीवीटी, एटी, शिकायत निगरानी कंट्रोल रूम, एमसीएमसी , फलाईंग स्कवाएड टीमें और एसएसटी  टीमें पूरी सजगता और सतर्कता के साथ भारत निर्वाचन आयोग द्वारा निर्धारित नियमों की अनुपालना करते हुए पूरी निष्पक्षता और पारदर्शिता के साथ अपना दायित्व निभाएं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।