24 वें तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी का होगा 2546 वां निर्वाण महोत्सव: चढ़ेंगे 24 किलो के 24 निर्वाण लड्डू
October 19th, 2019 | Post by :- | 183 Views

जयपुर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । शहर के मानसरोवर स्थित दिगम्बर जैन मंदिर वरुण पथ पर मुनि विश्वास सागर मुनिराज एवं मुनि विभंजन सागर मुनिराज ससंघ सानिध्य में दो दिवसीय भगवान महावीर स्वामी का निर्वाण महोत्सव एवं दीपावली पर्व मनाया जायेगा। कार्यक्रम की शुरुआत शनिवार 26 अक्टूबर को प्रात: 5.15 बजे से होगी। जिसमे सर्व प्रथम युगल मुनिराज ससंघ सानिध्य में ध्यान योग की क्रिया विधि संपन्न करवाई जाएगी। जिसके उपरांत दोनों मुनिराजों के विशेष आशीर्वचन संपन्न होगे। मंदिर समिति अध्यक्ष एमपी जैन और मंत्री जेके जैन ने बताया की रविवार 27 अक्टूबर को जैन धर्म के 24 वें तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी का 2546 वां निर्वाण (मोक्ष) कल्याणक पर्व मनाया जायेगा। इस दौरान मुनि विश्वास सागर और मुनि विभंजन सागर मुनिराज ससंघ सानिध्य में प्रात: 6 बजे से मुलनायक भगवान महावीर स्वामी का स्वर्ण एवं रजत कलशों से कलशाभिषेक होंगे और उसके बाद भव्य शांतिधारा की जाएगी। शांतिधारा के पश्चात् मुलनायक महावीर भगवान की विशाल जिन बिम्ब प्रतिमा के सम्मुख 24 किलो का सामूहिक निर्वाण लड्डू निर्वाण कांड पाठ और जयमाला अर्घ के गुणगान के साथ मंत्रोच्चार के साथ चढाया जायेगा।
*लगेगी निर्वाण स्थली पावापुरी की झांकी:
प्रचार संयोजक अभिषेक जैन बिट्टू ने बताया की भगवान महावीर स्वामी के निर्वाण कल्याणक पर्व के शुभावसर पर युगल मुनिराज की मंगल प्रेरणा और निर्देशन में महावीर भगवान की मोक्ष कल्याणक स्थली “पावापुरी तीर्थ“ की झांकी का भी मंचन किया जायेगा इस झांकी में 24 तीर्थंकर भगवानों की प्रतिकृति लगाई जाएगी। जिसमे 24 परिवार 24 तीर्थंकर भगवानो के सम्मुख खड़े होकर 24-24 किलो के निर्वाण लड्डू चढ़ाएंगे।
*होगा युगल मुनिराजों का पिच्छी का परिवर्तन समारोह:
संगठन मंत्री सुनील गंगवाल और सदस्य विनेश सोगानी ने बताया की जैन धर्म के ग्रंथो के अनुसार भगवान महावीर स्वामी के मोक्ष कल्याणक पर्व पर लड्डू चढ़ने के साथ ही दिगम्बर जैन संतो और आर्यिका माताजी जहाँ–जहाँ चातुर्मास कर रहे के चातुर्मास निष्ठापन कार्यक्रम शुरू हो जाते है। वरुण पथ दिगम्बर जैन मंदिर में चातुर्मास कर रहे मुनि विश्वास सागर जी मुनिराज एवं मुनि विभंजन सागर जी मुनिराज अपना चातुर्मास निष्ठापन रविवार, 27 अक्टूबर को करेगे। प्रात: 9.15 बजे चातुर्मास निष्ठापन कार्यक्रम प्रारम्भ होगा जिसमे पुण्यार्जक परिवारों को मंगल कलश भेंट किये जायेगे। साथ ही युगल मुनिराज के पाद प्रक्षालन होंगे। शास्त्र भेंट किये जायेगे। समिति द्वारा चातुर्मास में सहयोग देने वाले श्रेष्ठियो का स्वागत,सम्मान किया जायेगा और अंत में दोनों मुनिराजो को नविन पिच्छी भेंट की जाएगी और भाग्यशाली त्यागी वृति श्रेष्ठी को मुनिराजों की पिच्छी करने का अवसर मिलेगा। आखिरी में युगल मुनिराज अपने आशीर्वचन के साथ अपना चातुर्मास निष्ठापन करेंगे साथ ही कार्यक्रम के दोरान जीवन्धर चरित्र एवं धन्य कुमार चरित्र प्रतियोगिता के परिणाम को भी घोषणा होगी। जिसके बाद उन्हें पुरुस्कर्त किया जायेगा। कोषाध्यक्ष केलाशचंद सेठी ने बताया की मोक्ष कल्याणक पर्व के अवसर पर मुनिराजों के सानिध्य में संध्याकालीन 6 बजे से मुलनायक भगवान महावीर स्वामी की गीत–संगीत के साथ 1008 दीपों से भव्यातिभव्य महामंगल आरती का भी भव्य आयोजन किया जायेगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।