करसोग में रँगड़ो के काटने से 3 बर्षीय बच्ची की मौत, 2 महिलाओं पर भी हमला दोनों गम्भीर रूप से घायल।
October 19th, 2019 | Post by :- | 107 Views

मंडी,करसोग(मोहन शर्मा):- करसोग के तहत पड़ने वाली ग्राम पंचायत शाहोट के गांव स्यानजली (जोड़) में एक ही परिवार के तीन लोगों को काट दिया, जिसमें 3 वर्षीय लड़की की मौत हो गई। वहीं दो महिलाओं की उपचार के लिए आईजीएमसी को रेफर किया गया है। दोनों ही महिलाएं रिश्ते में मृतिका की दादी और मां लगती थी। जानकारी के मुताबिक वीरवार को सांय साढ़े पांच बजे के करीब बच्ची घास काटने गई अपनी दादी और मां के साथ के खेत गई थी। जैसे ही सास बहू ने घास काटना शुरू किया, उसी वक्त अचानक ही घास के बीच से रंगडों बच्ची सहित दोनों महिलाओं पर हमला कर दिया। एक साथ भारी संख्या में रंगडों के हमला करने से इन सभी को संभलने का मौका तक नहीं मिला। घटना का शिकार हुई बच्ची का पिता घर पर नहीं था। वह सब सीजन के लिए किन्नौर गया था। ऐसे में गांव वालों ने पीठ पर उठाकर सभी को गाड़ी तक पहुंचाया। इसके बाद इन्हें उपचार के लिए शाम करीब 9.15 पर सिविल अस्पताल करसोग लाया गया। इस दौरान बच्ची की अस्पताल में मौत हो गई और दोनों महिलाओं को प्राथमिक उपचार देने के बाद आईजीएमसी अस्पताल रेफर किया गया। पुलिस के मुताबिक मृतिका की पहचान शिवानी पुत्री सेवानंद के तौर पर हुई है। वहीं रंगडों द्वारा काटी गई दोनों महिलाओं की पहचान कौशल्या देवी उम्र 25 साल और दादी रोशनी देवी उम्र 50 के रूप में हुई है। पोस्टमार्डम के बाद बच्ची के शव को परिजनों के सपुर्द किया गया है। डॉक्टरों के मुताबिक बच्ची की मौत रात करीब 10 बजे हुई। थाना प्रभारी करसोग रंजन शर्मा ने मामले की पुष्टि की है।

हर साल आते हैं रंगडों के काटने के मामले:
करसोग में हर साल किसी न किसी क्षेत्र से रंगडों के काटने के कई मामले आते हैं। खासकर अक्टूबर महीने में घास और फसल कटाई के सीजन में इस तरह के मामले सबसे अधिक होते है। घास और मक्की के कटाई के वक्त लोगों पर रंगडों के हमले का अधिक खतरा रहता है। इस दौरान कई लोगों की मौत भी हो चुकी है।

प्रशासन की तरफ से परिवार को नहीं मिली कोई राहत:
रंगडों के काटने से हुई बच्ची की मौत पर परिवार को प्रशासन की ओर से कोई राहत प्रदान नहीं की गई है। एसडीएम करसोग सुरेंद्र कुमार ठाकुर का कहना है कि नियमों में रंगडों के काटने से हुई मौत पर राहत का कोई प्रावधान नहीं है। वहीं आवारा पशुओं, सांप के काटने और दुर्घटना में हुई मौत पर राहत राशि का प्रावधान है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।