ओवरलोड टिप्परों के खिलाफ सड़क पर बैठ किया प्रदर्शन, पुलिस व जिला प्रशासन के खिलाफ हुई नारेबाजी
October 17th, 2019 | Post by :- | 128 Views

रायपुर रानी, लोकहित एक्सप्रेस

नारायणगढ़ से रायपुर रानी, रामगढ़ जाने वाले ओवरलोड टिप्परों की आवाजाही से परेशान ग्रामीणों ने एकजुट होकर सड़क पर प्रदर्शन किया। बीते दिन टिप्पर की चपेट में आकर रायपुर रानी वासी राममूर्ति की मृत्यु हो गई। मृतक के परिजनों ने सड़क पर उतर कर टिप्परों के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया। ग्रामीणों की भीड़ ने सड़क पर प्रदर्शन करते हुए सड़क से गुजर रहे टिप्परों को रोका और प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। ग्रामीणों ने “पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद, आरटीए प्रशासन मुर्दाबाद व ओवरलोड वाहनों महीना लेने वाले का नाश हो” जैसे नारे लगाये। करीब डेढ़ घंटे तक सड़क पर भारी वाहनों की आवाजाही रुकी रही। मोटरसाइकिल, कार, एम्बुलेंस व अन्य आपातकालीन वाहनों को किसी भी ग्रामीण ने तंग नही किया। प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी होने पर पंचकूला पुलिस के एसीपी विजय देशवाल अपनी टीम के साथ मौका पर पहुँचे और ग्रामीणों को समझाने लगे। ग्रामीणों को समझाने में नाकामी मिलने पर आरटीए विभाग को भी मौका पर बुलाया गया। एसीपी विजय देशवाल और आरटीए इंस्पेक्टर अजय सैनी ने मिलकर ग्रामीणों को समझाया और ओवरलोड वाहनो पर तुरंत लगाम कसने का आश्वासन दिया। जिसके बाद ग्रामीणों ने प्रदर्शन को विराम देते हुये कहाकि अगर प्रशासन सख्त कार्यवाही नही करता तो आने वाले समय मे इससे भी बड़ा प्रदर्शन किया जायेगा। रायपुर रानी ग्राम पंचायत के सरपंच मुकेश कुमार छाबड़ा ने कहाकि वे पंचायत की तरफ से ओवरलोड वाहनो पर अंकुश लगाने बारे उपायुक्त को प्रार्थना पत्र देंगे। एसीपी देशवाल व आरटीए इंस्पेक्टर अजय ने ग्रामीणों को कहाकि रायपुर रानी की दोनो तरफ की सीमाओं पर बैरिगेट लगाकर ओवरलोड वाहनो की जांच की जायेगी। प्रदर्शन के दौरान मौका पर ही मिले दो टिप्परों पर कार्यवाही भी की गई।

प्रदर्शन की सूचना मिलते ही सड़क से गायब हुए टिप्पर

सुबह से सड़क पर नारायणगढ़ की ओर से ओवरलोड खनन सामग्री के टिप्पर तेज रफ्तार से दौड़ रहे थे। जैसे ही स्थानीय पुलिस को ग्रामीणों के एकजुट होकर प्रदर्शन करने की भनक लगी। सड़क पर दौड़ने वाले टिप्पर ही गायब हो गये। जिस समय ग्रामीणों ने प्रदर्शन शुरू किया सिर्फ एक टिप्पर के अलावा कोई टिप्पर सड़क से नही गुजरा। ग्रामीणो का कहना है कि पुलिस व प्रशासन की मिलीभगत से ही ओवरलोडिंग का अवैध कारोबार फलफूल रहा है। लोगो का कहना है कि जब हर रोज सैंडको ओवरलोड टिप्पर सड़क से गुजरते है तो प्रदर्शन की भनक लगने के बाद एक भी टिप्पर क्यो नही चला ?

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।