रची गई हाथों में सजना के नाम की मेहंदी सुहागिन महिलाओं ने रखा करवा चौथ का व्रत
October 17th, 2019 | Post by :- | 148 Views

         लोकहित एक्सप्रेस

पलवल /प्रवीण आहूजा

करवा चौथ के त्यौहार को लेकर पूरा दिन शहर में सुहागिनों महिलाएं खरीदारी के साथ अपने हाथों में मेहंदी लगवाती देखी गई शहर के समस्त बाजार आज एक नए रूप में दिखाई देने लगे चारों और दुकानदारों ने महिलाओं की खरीदारी के लिए सभी ने अपनी दुकानें भरपूर सजावट से सजा रखी थी। ताकि बाजार में आई हुई सुहागिन महिलाएं भरपूर खरीदारी कर सके वहीं बाजार में मेहंदी लगवाने वालों की आज भरपूर मांग दिखाई देने लगी एक हाथ में मेहंदी लगाने के लिए 200 रुपये और दो हाथों पर लगाने के लिए 400 रुपये रेट बाजार में चल रहा था कहते हैं कि कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाने वाला करवा चौथ का व्रत अपने सुहाग की लंबी उम्र की कामना के लिए सुहागिन महिलाएं यह व्रत रखती हैं इस दिन सुहागिन महिला प्रात उठकर मंदिर में जाती हैं और उसके बाद पूरा दिन का उपवास रखकर अपने सुहाग की लंबी कामना के लिए करवा चौथ का व्रत रखती हैं।

करवा चौथ के नजदीक आते महिलाओं के मन में अजीब सी हलचल होने लगती है आधुनिकता के अनुरूप सजने संवरने के लिए महिलाएं कुंवारी कन्याएं तरह-तरह के सजने सवरने के समान को बाजार से लाकर करवा चौथ के विशेष दिन के अवसर पर अपने लिए श्रृंगार करती हैं वहीं समाजसेवी का सीमा आहूजा ने बताया कि आज के दिन पूरे एक वर्ष इंतजार करना पड़ता है इस दिन अपने सुहाग की लंबी उम्र के लिए करवा चौथ का व्रत रखा जाता है इस अवसर पर सुहागिन महिलाएं अच्छी तरह से श्रृंगार करके पूरा दिन का उपवास रखती हैं और रात को चंद्र देवता को अर्क ओर दर्शन करने के बाद बाद  पति के पांव छूने के उपरांत भोजन ग्रहण करती हैं। ऐसा करने से उन्हें बेहद सुकून मिलता है उन्हें पूरा एक साल इंतजार भी करना पड़ता है और बेहद उमंग वाला यह दिन होता है उन्होंने बताया प्रत्येक स्त्री को अपने पति की दीर्घायु के लिए इस व्रत को जरूर रखना चाहिए क्योंकि शास्त्रों में बताया गया है कि पति सेवा परम सेवा कहलाई जाती है इसलिए हर सुहागिन स्त्री को यह व्रत जरूर करना चाहिए

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।