किरण चौधरी के विकास कार्य एवं साफ छवि दे रही है साथ तो बीजेपी प्रत्याशी को भीतरघात का खतरा।
October 16th, 2019 | Post by :- | 106 Views

तोशाम संवाददाता : विधानसभा चुनाव में माहौल हर रोज अपना व्यवहार बदल रहा है। तोशाम विधानसभा सीट पर भाजपा का स्वास्थ्य पिछले सप्ताह से गड़बड़ाया हुआ है। पिछले विधानसभा चुनाव में तोशाम से भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ा था।इस बार नजारा और अंदाज एकदम उलटा हुआ है।क्योकि तोशाम विधानसभा सीट से बीजेपी पार्टी के लगभग एक दर्जन से ज्यादा टिकटार्थी चुनाव की घोषणा से पूर्व तोशाम विधानसभा में टिकट की आस लगाए बैठे लगभग एक दर्जन में से एक-दो को छोड़कर किसी भी भाजपा नेता का उन्हें समर्थन मिलता दिखाई नहीं दे रहा है। तोशाम में भाजपा ही भाजपा की दुश्मन बन गई है। यदि बीजेपी प्रत्याशी के साथ भीतरघात हो गया तो चुनावी समीकरण पुरी तरह से बदल जाएंगे।यहां भाजपाइयों को नुकसान पहुंचाने के लिए जहां विपक्ष पूरा आक्रामक है। वही मौजूदा भिवानी महेन्द्रगढ सांसद धर्मबीर सिंह अपने समर्थक महैन्द्र कैरू को टिकट दिलवाना चाहते थे लेकिन बीजेपी ने उनको टिकट तक पहुंचने नहीं दिया जिसका दर्द चुनाव प्रचार के दौरान देखने को मिला। उन्होंने तोशाम हल्के के कई गांवों में चुनाव प्रचार के दौरान कहा कि मै तो टिकट किसी और को दिलाना चाहता था के ब्यान को लेकर राजनीतिक गलियारों में हलचल पैदा कर दी है। इनमें कौन सही-कौन गलत है
यह चुनाव का परिणाम ही बताएगा लेकिन इतना जरूर है कि इस बार ना तो जम्मू कश्मीर से हटी धारा 370 अपना असर दिखाने वाली है और ना ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं मुख्यमंत्री मनोहर लाल का करिश्माई भाषण। यहां लड़ाई अब खुद में बदल चुकी है। भारतीय जनता पार्टी से चुनाव लड़ रहे शशि रंजन परमार, कांग्रेस की उम्मीदवार किरण चौधरी एवं जजपा उम्मीदवार सीताराम सिंगला ग्रामीण क्षेत्रों में प्रचार के बाद अब शहरी क्षेत्रों में प्रचार में जुट गए हैं। कांग्रेस उम्मीदवार एवं पूर्व मंत्री किरण चौधरी ने पिछले विधानसभा चुनाव में भारी बहुमत से विजय हासिल की थी ।और बीजेपी प्रत्याशी को हार का सामना करना पड़ा था। तोशाम से टिकट की चाह रखने वाले एक दर्जन के करीब बीजेपी नेता बीजेपी प्रत्याशी से दूरी बनाए हुए हैं वहीं उनसे भितरघात का खतरा भाजपा को बना हुआ है।जबकि कांग्रेस उम्मीदवार किरण चौधरी का चुनावी अभियान पहले की अपेक्षा मजबूत हुआ है। किरण चौधरी को उनके द्वारा किए गए विकास कार्यों और साफ छवि उनके लिए फायदेमंद मानी जा रही है। जजपा प्रत्याशी सीताराम सिंगला भी चुनाव प्रचार में आक्रामक रूप से लगे हुए हैं। वे ग्रामीण क्षेत्रों के साथ-साथ शहरी क्षेत्रों में मतदाताओं को साधने में लगे हुए हैं। वही किरण चौधरी अपने पिछले कार्यकाल के दौरान करवाए गए विकास कार्यों को लेकर जनता के बीच जा रही हैं वहीं उनकी साफ छवि भी मतदाताओं को अपनी ओर आकर्षित कर रही है। वे जहां मौजूदा सरकार की नाकामियों को लोगों के बीच गिना रही हैं वही जनता से यह यह भी कह रही हैं कि जब भाजपा प्रत्याशी उनके बीच आए तो पूछना कि मौजूदा सरकार ने तोशाम विधानसभा के लिए क्या किया है? हालांकि चुनाव में अभी कुछ दिन शेष है। इसमें कौन सी पार्टी के प्रत्याशी के सिर पर ताज सजेगा या फिर अंतिम समय मे कौन किस पर भारी पड़ेगा ,यह तो समय ही बताएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।