गरीबी और लाचारी से दुखी विधवा ताक रही सपनों का घर
October 15th, 2019 | Post by :- | 151 Views

इंदौरा (मुकेश सरमाल)

जिन मुद्दों ओर योजनाओं को लेकर सरकार ने जीत की राह देखी थी वह सभी मुद्वे अोर योजनाएं इंदौरा विधानसभा क्षेत्र में खोखले सिद्ध हो रहे हैं आए दिन कोई न कोई गरीब अपनी गरीबी और बेबसी से सरकार की सभी योजनासो अोर दावों की पोल खोल रहे हैं ऐसा ही वाक्य पंचायत गगवाल गावं भदरोया में देखने को मिला जहां एक(68बर्षीय वृद्व) विधवा निर्मला देवी गरीबी ओर वेवसी के कारण घने जगंल में अकेली तिन के बने एक जर्जर झोपड़े में रहने को मजबूर है । बता दें इनकी चार बेटियां हैं जिनकी शादी हो चुकी बेटियां हैं जिनकी शादी हो चुकी शादी हो चुकी है और इनके पति मजदूरी का काम करते थे जिनकी मृत्यु हो चुकी है अब यह अकेली इस घने जंगल में रहने को मजबूर हैं वृद्ध निर्मला देवी के ना तो घर जाने के लिए पक्का रास्ता है और ना ही इस महिला को पीने के पानी की कोई सुविधा है पीड़ित वृद्ध महिला का कहना है कि वह तो भगवान की तो भगवान की आश्रय ही जी रही हैं और उनका कहना है की गरीब की कोई नहीं सुनता बस सभी झूठे वादे करते हैं और वोट लेने के बाद कोई शक्ल तक नहीं दिखाता

‘——————गरीबी के कारण चारों लड़कीया रही अनपढ़
पीड़ित निर्मला देवी का कहना का कहना है की पति मजदूरी और लकड़ी बेचने का काम करते थे जिससे घर का गुजारा भी बहुत मुश्किल से होता था ऐसे में मैं किसी भी लड़की को पढ़ा नहीं सकी जैसे तैसे करके उनकी शादी की लेकिन वह भी बहुत गरीब घर में है।

—————–बस धके खाकर बस पेशन ही मिली बाकि सभी योजनाजों से बंचित निमला ; निर्मला देवी का कहना है बड़ी मुश्किल से एक सरकारी विधवा पेंशन ही उनको मिली है बाकी ना तो कोई उज्जवला योजना के तहत गैस मिली है और ना ही शौचालय योजना के तहत कोई शौचालय उनका कहना जी भी है यह है यह सभी योजनाएं खासम खास लोगों को दी जाती हैं ना कि ना कि किसी गरीब को निर्मला देवी का कहना का कहना है कि वह रोज 700 रोज 700 मीटर कच्चे रास्ते मैं पैदल चलकर 1 किलोमीटर दूर से पानी लाती है तब जाकर बे खाना बना पाती हैं ऐसे हाल में देखने वाली बात यह है वह कौन सा गरीब अंतिम घर होगा जिसको सरकार की सभी योजनाएं मिलती होंगी

——— पंचायत प्रधान कविता देवी का कहना है की प्राथमिकता के आधार पर निर्मला देवी का घर आवास योजना के तहत डाला गया है लेकिन जब सरकार की तरफ से पैसे आएंगे तभी यह योजना इस गरीब को मिल सकती हैं। और इनकी पेंशन के लिए आवेदन किया था जिस कारण इनको 1500 रुपए पेंशन मिल रही है

—— बी डी ओ इंदौरा सुशीला शर्मा मामला संज्ञान में लाया गया है उक्त मामले की अधिकारी की जांच करवाई जाएगी और परिवार को जो संभव सहायता होगी दी जाएगी

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।