हरियाणा विधानसभा चुनाव को लेकर पोलिंग पार्टीयों की पहली व दूसरी रिहर्सल एसडी कालेज में हुई
October 14th, 2019 | Post by :- | 40 Views

अम्बाला, ( सुखविंदर सिंह )

हरियाणा विधानसभा चुनाव को लेकर पोलिंग पार्टीयों की पहली व दूसरी रिहर्सल एसडी कालेज में हुई। जिसमें सामान्य पर्यवेक्षक गंगा राम बदरिया अम्बाला छावनी विधानसभा क्षेत्र-04 के रिटर्निग अधिकारी एवं एसडीएम सुभाष चंद सिहाग, एसीयूटी अखिल पिलानी भी मौजूद रहे। 

       इस अवसर पर सामान्य पर्यवेक्षक गंगा राम बदरिया ने कहा कि विधानसभा  चुनाव में जिन भी अधिकारियों/कर्मचारियों की डयूटी लगी हुई है वे अपना कार्य चुनाव आयोग की हिदायतों एवं दिशा निर्देशों का पालन करते हुए सही प्रकार से पारदर्शीता के साथ करें। उन्होंने कहा कि चुनाव की डयूटी में किसी प्रकार की लापरवाही न बरते। चुनाव लोकतंत्र का एक उत्सव है जिसमें सभी अपनी-अपनी डयूटी पूरी ईमानदारी एवं कर्तव्यनिष्ठा के साथ करें।

          इस अवसर पर रिटर्निग अधिकारी एवं एसडीएम सुभाष चंद ने कहा कि मतदान के दिन 21 अक्तूबर को सुबह 6.00 बजे मॉकपाल शुरु होगा और मॉकपाल के बाद ईवीएम और वीवीपैट मशीनों को गम्भीरता के साथ नियमानुसार सील किया जाए। विधानसभा चुनाव के लिए सुबह 7.00 बजे से लेकर सायं 6.00 बजे तक मतदान होगा। उन्होंने कहा कि पीठासीन अधिकारी कम से कम एक बार पीठासीन अधिकारी की पुस्तिका का गहराई से अध्यन कर लें ताकि उन्हें चुनाव के दौरान कोई दिक्कत न आये। उन्होंने कहा कि अम्बाला छावनी विधानसभा क्षेत्र में 188 मतदान केन्द्र है। 

          विधानसभा चुनाव में पोलिंग पार्टीयों में लगाए गये अधिकारियों/कर्मचारियों की रिहर्सल एवं ट्रैनिग कार्यक्रम में मा. ट्रेनर नरेश ढाका, जसमेर सिंह, अजय सैनी, सुशील अरोड़ा ने ईवीएम व वीवी पैट के बारे में विस्तार से जानकारी दी। रिहर्सल के दौरान उन्हें बताया गया कि मॉक पोल के दौरान किस प्रकार 50 वोटे डलवाई जायेगी व प्रत्येक उम्मीदवार व नोटा की कम से कम एक-एक वोट डलवाकर मॉक पोल किया जाए तथा उसके बाद ईवीएम मशीन को क्लीयर कर सील किया जायेगा तथा वीवीपैट मशीन को भी खाली किया जाए। इसके अलावा ईवीएम के कंट्रोल यूनिट/बैल्ट यूनिट, मॉक पोल सर्टीफिकेट, डिकलरेशन सर्टीफिकेट, प्रीजाईंडींग डायरी, ईवीएम को सिलिंग करने की प्रक्रिया आदि के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। 

रिर्हसल में बताया गया कि पोलिंग स्टेशन पर जाने से सबसे पहले पोलिंग पार्टी पूरी है या नहीं इस कार्य को सुनिश्चित करें, ईवीएम मशीन जो उन्हें वितरित की गई है वह सील हैं या नहीं, उस बूथ से सम्बध्ंिात है, इस बात की पहले ही जांच कर लें। इसके साथ-साथ बूथ सम्बध्ंिात वोटर लिस्ट, स्याही की डिब्बी सहित मतदान केन्द्र सम्बधी जो अन्य आवश्यक सामग्री दी गई हैं उसकी भी पहले से ही जांच करनी सुनिश्चित करें। उसके बाद वह सैक्टर ऑफिसर को बताये कि उन्हें सामग्री मिल चुकी हैं। जिला प्रशासन द्वारा उपलब्ध करवाये गये वाहन में ही वे पोलिंग मैटिरियल ले जाना सुनिश्चित करें और उसी वाहन में ही मतदान की प्रक्रिया पूरी होने पर वापस आये। मतदान से पहले बूथ की व्यवस्था जांच ले, मतदान वाले प्रवेश स्थान पर आने-जाने का रास्ता अलग हो, जहां पर ईवीएम मशीन व वीवी पैट रखा जाएगा तो यह सुनिश्चित हो की वोट की गोपनीयता बनी रहे आदि बातों का विशेष तौर पर ध्यान रखा जाए।  

  मतदान वाले दिन डयूटी पर तैनात स्टॉफ यह भी ध्यान रखें की पोलिंग बूथों पर जिस व्यक्ति ने मतदान कर दिया है, उसे वहां से भेजना सुनिश्चित करें व अनावश्यक भीड़ न हो। जिस स्टॉफ की मतदान केन्द्र पर डयूटी हैं वह निष्पक्षता से काम करें तथा यह निष्पक्षता दिखनी भी चाहिए और वह अपना व्यवहार ठीक रखे। मतदान वाले दिन सुबह 6 बजे पोलिंग ऐजेन्ट की उपस्थिति में मॉकपोल भी करें ताकि मतदान प्रक्रिया के दौरान उन्हें किसी भी समस्या का सामना न करना पड़े। मॉकपोल के बाद अधिकारी यह सुनिश्चित करेगें जो मत मॉकपोल के  दौरान किए गए हैं उनकी पर्ची वीवीपैट मशीन से निकालना सुनिश्चित करेगें। मशीन खाली हैं यह प्रक्रिया पोलिंग ऐजेन्ट को दिखाएगें और उससे लिखित में सर्टिफिकेट तथा इससे सम्बंधित फार्म पर हस्ताक्षर करवाने के बाद मतदान प्रक्रिया को शुरू करवाने का कार्य करेंगें।  

मतदान प्रक्रिया के दौरान यदि कहीं पर मतदाताओं की लाईन अव्यवस्थित है तो उसे ठीक करवाने के साथ-साथ दिव्यांग, बीमार व्यक्ति, गर्भवती महिला को पहले मतदान करवाने का कार्य सुनिश्चित करें। मतदान प्रक्रिया के खत्म होने से पांच मिनट पहले प्रिजाइडिंग ऑफिसर यह अनाउंस करवा दें कि मतदान प्रक्रिया सम्पन्न होने वाली है। वीवी पैट मशीन के माध्यम से मतदाता 7 सैकेंड तक इस प्रक्रिया को देख सकता है, उसने किस प्रत्याशी को मतदान किया है। पोलिंग पार्टीयों के प्रथम और द्वितीय बैच की रिहर्सल सुबह और सांय के समय दो चरणों में की गई।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।